लाइव पोस्ट
चीन में शुरू हुआ दुनिया का सबसे ऊंचा पुल, 14.40 करोड़ डॉलर से बना
नोटबंदी को लेकर तृणमूल कांग्रेस का पीएम मोदी पर कटाक्ष- 'उम्मीद है कल बड़ी घोषणा करेंगे'
सीतापुर में यात्रियों से भरी बस नदी में पलटी, बचाव कार्य जारी
झारखंड में कोयला खदान के अंदर फंसे मजदूर, 10 शव निकाले गए
दिल्ली हाई कोर्ट ने शादियों के लिए बैंक खाते से 2.5 लाख रुपए निकालने के खिलाफ याचिका खारिज़ की
संसद के दोनों सदनों में नोटबंदी के खिलाफ विपक्षी दलों का हंगामा जारी
घोषित काले धन पर लगेगा 50% टैक्स, लोकसभा ने आयकर अधिनियम में संशोधन पास किया

ऑरटेल का बिजनेस उभरते बाज़ारों में दूसरी तिमाही में परिचालन लाभ में आया

ऑरटेल की कैरेज़ आय पिछली तिमाही से 9% घट गई है। लेकिन कंटेंट लागत भी 13.3% घटी है। उसका कुल सब्सक्राइबर आधार अब बढ़कर 8,04,889 का हो गया है। उभरते बाज़ारों से उसकी आय इस बार 11.7 करोड़ रुपए रही है।

डिजिटाइजेशन के बीच घट गया ऑरटेल कम्युनिकेशंस का शुद्ध लाभ पहली तिमाही में

ऑरेटल कम्युनिकेशंस का शुद्ध लाभ पहली तिमाही में ठीक पिछली तिमाही के 2.8 करोड़ रुपए से 68.9% की भारी गिरावट के साथ मात्र 90 लाख रुपए पर पहुंच गया। अन्य आय को छोड़कर उसका परिचालन लाभ भी 20.9% घटकर 13.4 करोड़ रुपए रह गया।

वित्त वर्ष 2015-16 में हैथवे का परिचालन लाभ 52% बढ़ा, लगाए 22 लाख एसटीबी

वित्त वर्ष 2015-16 में 22 लाख एसटीबी लगाने से मिली एक्टिवेशन आय के दम पर हैथवे केबल का परिचालन लाभ पिछले वित्त वर्ष के मुकाबले 52% बढ़ गया है। इस दौरान उसकी कैरेज़ आय 4% घटी है, जबकि कंटेंट लागत मात्र 1% बढ़ी है।

वीडियोकॉन डी2एच ने चौथी तिमाही में घाटा कम किया, जोड़े शुद्ध स्तर पर 5.9 लाख सब्सक्राइबर

वीडियोकॉन डी2एच ने चौथी तिमाही में अपना शुद्ध घाटा 75.7 करोड़ रुपए से घटाकर 21.2 करोड़ रुपए कर लिया है। उसकी कंटेंट लागत अब आय का 37.5% रह गई है। साथ ही कंपनी की शुद्ध सब्सक्राइबर आधार अब बढ़कर 1.186 करोड़ का हो गया है।

क्या कहता है डेन नेटवर्क्स के दूसरी तिमाही के कामकाज़ का विश्लेषण

डेन की कैरेज़ आय 115 करोड़ रुपए रही है जो पिछली तिमाही में हासिल 118 करोड़ रुपए की कैरेज़ आय से 6% कम है। इसकी अहम वजह एक ब्रॉडकास्टर से मिली कम प्लेसमेंट फीस है। हमने कंपनी के अन्य पहलुओं – एआरपीयू, कंटेंट लागत, लगाए गए एसटीबी और केबल व ब्रॉडबैंड बिजनेस की भी पड़ताल की है।

एनडीटीवी ने टीवी बिजनेस का घाटा कम किया, डिजिटल व ई-कॉमर्स से उत्साहित

एनडीटीवी कम विज्ञापन और ज्यादा कैरेज़ लागत के बावजूद समाचारों के अपने मूल बिजनेस का कायाकल्प करने में लगी है। वहीं वो अब डिजिटल व ई-कॉमर्स क्षेत्र में पैर जमाने पर फोकस कर रही है।

हैथवे केबल का परिचालन लाभ वित्त वर्ष 2015 में 16% घटा, कैरेज़ आय 9% बढ़ी

31 मार्च 2015 को समाप्त वित्त वर्ष में टेलिविज़न चैनलों को हैथवे द्वारा किया गया भुगतान 22.01 प्रतिशत बढ़ गया है और उसका समेकित शुद्ध घाटा पहले से कहीं ज्यादा हो गया है।

टीवी टुडे का शुद्ध लाभ वित्त वर्ष 2014-15 में 32% बढ़ा, आय में भी अच्छी वृद्धि

चौथी तिमाही में खर्चों में तेज वृद्धि और स्टैंडअलोन शुद्ध लाभ में 45.23 प्रतिशत की बड़ी गिरावट के बावदजूद टीवी टुडे नेटवर्क का पूरे वित्त वर्ष का प्रदर्शन मजबूत बना रहा है।

वित्त वर्ष 2014-15 में डेन नेटवर्क्स की कैरेज़ आय ठहरी, कंटेंट लागत बढ़ी

डेन नेटवर्क्स के लिए वित्त वर्ष 2014-15 में दो खास रुझान परेशान करनेवाले हैं। वैसे, कंपनी के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि दिक्कत केवल चौथी तिमाही में रही है और पहले व दूसरे चरण के शहरों में डिजिटल केबल टीवी बिजनेस अब जमने लगा है।

एनडीटीवी: न्यूज़ बिजनेस को हुआ वित्त वर्ष 2015 में परिचालन लाभ

एनडीटीवी के न्यूज़ बिजनेस ने स्टैंडएलोन आधार पर वित्त वर्ष 2014-15 में अन्य आय, वित्तीय लागत व असामान्य मदों को हटा दें तो 9.64 करोड़ रुपए का लाभ कमाया है, जबकि पिछले वित्त वर्ष 2013-14 में उसे 46.96 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था। अंग्रेज़ी न्यूज़ चैनल लाभप्रद बना रहा है, जबकि एनडीटीवी प्रॉफिट/प्राइम ब्रेकइवेन और एनडीटीवी इंडिया परिचालन लाभ में आ गया है।