लाइव पोस्ट

हैथवे की ब्रॉडबैंड आय ने सितंबर तिमाही में केबल टीवी सब्सक्रिप्शन आय को मात दी

मुंबई: हैथवे केबल एंड डेटाकॉम के ब्रॉडबैंड बिजनेस की आय पहली बार उसकी केबल टीवी सब्सक्रिप्शन आय से ज्यादा हो गई है।

चालू वित्त वर्ष 2016-17 में 30 सितंबर 2016 को समाप्त दूसरी तिमाही में कंपनी की ब्रॉडबैंड आय 120.3 करोड़ रुपए रही है, जबकि इस दौरान केबल टीवी सब्सक्रिप्शन आय 110.4 करोड़ रुपए दर्ज की गई है। ब्रॉडबैंड आय ठीक पिछली तिमाही की तुलना में 15 प्रतिशत बढ़ी है, जबकि केबल टीवी सब्सक्रिप्शन आय तिमाही आधार पर मात्र 2 प्रतिशत बढ़ी है।

30 जून 2016 को समाप्त पिछली तिमाही में हैथवे की केबल टीवी सब्सक्रिप्शन आय 107.7 करोड़ रुपए और ब्रॉडबैंड आय 104.6 करोड़ रुपए रही थी।

दूसरी तिमाही में हैथवे का परिचालन लाभ (ब्याज, टैक्स, मूल्यह्रास व अमोर्टाइजेशन से पूर्व लाभ) पहली तिमाही से 11 प्रतिशत बढ़कर 54.9 करोड़ रुपए हो गया। परिचालन लाभ सालाना आधार पर 12 प्रतिशत बढ़ा है।

कंपनी इस दौरान अपना शुद्ध घाटा पिछली तिमाही के 53.2 करोड़ रुपए से 24 प्रतिशत घटाकर 40.4 करोड़ रुपए पर ले आई है।

FINANCIAL-HIGHLIGHTS-AS-PER-IND-AS-02

आय का हाल 

सितंबर तिमाही में कंपनी की प्लेसमेंट आय पिछली तिमाही के 66.3 करोड़ रुपए से 1 प्रतिशत घटकर 65.4 करोड़ रुपए पर आ गई। सालाना आधार पर इसमें 23 प्रतिशत की कमी आई है।

लेकिन उसकी एक्टिवेशन तिमाही आधार पर 18.7 करोड रुपए से 8 प्रतिशत बढ़कर 20.2 करोड़ रुपए हो गई।

दूसरी तिमाही में कंपनी की कुल आय पिछली तिमाही के 302.1 करोड़ रुपए से 6 प्रतिशत बढ़कर 321.1 करोड़ रुपए हो गई। सालाना आधार पर उसकी आय 19 प्रतिशत बढ़ी है।

खर्च की स्थिति

दूसरी तिमाही में कंपनी का खर्च पहली तिमाही के 257.6 करोड़ रुपए से 4 प्रतिशत बढ़कर 267.7 करोड़ रुपए पर हो गया। पिछले वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही से यह 19 प्रतिशत ज्यादा है।

इस दौरान उसकी पे-चैनल लागत पिछली तिमाही की तुलना में कमोबेश ठहरी रही। इस बार उसकी पे-चैनल लागत 103.4 करोड़ रुपए रही है, जबकि जून तिमाही में 102 करोड़ रुपए रही थी। लेकिन साल भर पहले की तुलना में यह 22 प्रतिशत बढ़ गई है।

FINANCIAL-HIGHLIGHTS-AS-PER-IGAAP-02

केबल टीवी कामकाज़

डिजिटल एड्रेसेबल सिस्टम (डैस) के तीसरे व चौथे चरण के इलाकों में सेट-टॉप बॉक्स (एसटीबी) लगाने का काम अभी तक रफ्तार नहीं पकड़ सका है। इसके बावजूद सितंबर 2016 की तिमाही में हैथवे ने इन इलाकों में समेकित स्तर पर 8 लाख एसटीबी और स्टैंडएलोन आधार पर 2 लाख एसटीबी लगाए हैं। इससे उसका डिजिटल सब्सक्राइबर आधार 1.18 करोड़ पर पहुंच गया है। कंपनी का कहना है कि वो अपने केबल टीवी आधार का 92 प्रतिशत हिस्सा डिजिटाइज़ कर चुकी है।

डैस के तीसरे चरण में हैथवे का सब्सक्राइबर आधार 56 लाख हो गया है। वहीं कंपनी ने डैस के पहले चरण में 23 लाख और दूसरे चरण में 40 लाख एसटीबी लगा रखे हैं।

सितंबर 2016 की तिमाही में पहले, दूसरे व तीसरे चरण के इलाकों में कंपनी की प्रति यूज़र औसत आय (एआरपीयू) क्रमशः 105 रुपएस 90 रुपए और 30 रुपए रही है।

तिमाही के दौरान स्थानीय केबल ऑपरेटरों (एलसीओ) के लिए बनाए गए प्लेटफॉर्म हैथवे केबल कनेक्ट का विस्तार मध्य भारत और राजस्थान तक कर दिया गया है। पहले व दूसरे चरण के इलाकों में इस प्लेटफॉर्म का कवरेज़ अब बढ़कर 56 प्रतिशत हो गया है। दिल्ली में नए पैकेज़ पेश किए गए हैं।

दूसरी तिमाही में कंपनी ने एक समर्पित प्रमोशनल बार्कर चैनल ‘माई हैथवे’ भी लॉन्च किया। साथ ही उसने अपने मौजूदा केबल चैनलों – सीसीसी, एत फ्लिक्स 1 व 2 और एच ट्यूब में नई जान डाली।

ब्रॉडबैंड बिजनेस की प्रगति

पहली तिमाही में कंपनी की ब्रॉडबैंड आय पिछली तिमाही के 90.8 करोड़ रुपए से 15.1 प्रतिशत बढ़कर 104.6 करोड़ रुपए हो गई।

तिमाही के दौरान हैथवे ने एक लाख ब्रॉडबैंड सब्सक्राइबर जोड़े हैं। इससे उसका समेकित ब्रॉडबैंड आधार बढ़कर 8 लाख पर पहुंच गया है। उसका ब्रॉडबैंड नेटवर्क बढ़ते-बढ़े अब 38 लाख घरों के दायरे तक पहुंच चुका है। वैसे, समेकित स्तर पर कंपनी की ब्रॉडबैंड एआरपीयू सितंबर तिमाही में पिछली तिमाही के 670 रुपए से घटकर 643 रुपए पर आ गई है।

कंपनी का स्टैंडएलोन आधार पर दूसरी तिमाही में 70,000 ब्रॉडबैंड सब्सक्राइबर जोड़े हैं। इससे उसके ब्रॉडबैंड सब्सक्राइबरों की संख्या 4.90 लाख से बढ़कर 5.6 लाख हो गई है। इसमें से उसने 20,000 डॉक्सिस 3.0 के सब्सक्राइबर जोड़े हैं, जिससे उसके डॉक्सिस 3.0 सब्सक्राइबर 3.30 लाख पर पहुंच गए।

हैथवे ने ग्राहकों के अनुभव को उन्नत करने के लिए डॉक्सिस 3.0 के सब्सक्राइबरों को डॉक्सिस 3.1 टेक्नोलॉज़ी पर अपग्रेड करना शुरू कर दिया है। बता दें कि डॉक्सिस 3.1 केबल पर हाई-स्पीड ब्रॉडबैंड देनेवाली दुनिया की सबसे नई टेक्नोलॉज़ी है।

कंपनी ने यह भी बताया है कि बेंगलुरु, कोलकाता व दिल्ली में जीपीओएन फाइबर फॉर होम कनेक्शन को पहुंचाने में सब्सक्राइबरों ने बहुत उत्साहजनक प्रतिक्रिया दिखाई है और अब इसे तमाम शहरों तक पहुंचाया जा रहा है। इस समय कंपनी जीपीओएम उपभोक्ताओं को 50 एमबीपीएस, 100 एमबीपीएस और 150 एमबीपीएस के पैकेज़ दे रही है और नेटवर्क को 1 जीबीपीएस की स्पीड देने की क्षमता के लिए डिजाइन किया जा रहा है।

हैथवे विभिन्न शहरों में डेटा लिमिट में 100 प्रतिशत की वृदधि पेश कर रहा है ताकि ग्राहकों को अपने घर पर लगे ब्रॉडबैंड से ज्यादा से ज्यादा सुविधा हासिल हो सके।

ऋण की स्थिति

हैथवे पर चढ़ा ऋण 30 सितंबर 2016 तक 1670.3 करोड़ रुपए रहा है, जबकि ठीक पिछली तिमाही में यह 1590.4 करोड़ रुपए था।

वहीं, उसका ऋण इस दौरान 1636 करोड़ रुपए पर पहुंच गया है, जो एक तिमाही पहले 1564.8 करोड़ रुपए रहा था।