लाइव पोस्ट
चीन में शुरू हुआ दुनिया का सबसे ऊंचा पुल, 14.40 करोड़ डॉलर से बना
नोटबंदी को लेकर तृणमूल कांग्रेस का पीएम मोदी पर कटाक्ष- 'उम्मीद है कल बड़ी घोषणा करेंगे'
सीतापुर में यात्रियों से भरी बस नदी में पलटी, बचाव कार्य जारी
झारखंड में कोयला खदान के अंदर फंसे मजदूर, 10 शव निकाले गए
दिल्ली हाई कोर्ट ने शादियों के लिए बैंक खाते से 2.5 लाख रुपए निकालने के खिलाफ याचिका खारिज़ की
संसद के दोनों सदनों में नोटबंदी के खिलाफ विपक्षी दलों का हंगामा जारी
घोषित काले धन पर लगेगा 50% टैक्स, लोकसभा ने आयकर अधिनियम में संशोधन पास किया

एचवीएल ने ₹46.60 करोड़ में बेचे आईएमसीएल के 1.35% शेयर, मूल्यांकन ₹3444 करोड़

मुंबई: हिंदुजा वेंचर्स लिमिटेड (एचवीएल) ने अपनी केबल टीवी सब्सिडियरी कंपनी, इंडसइंड मीडिया एंड कम्युनिकेशंस लिमिटेड (आईएमसीएल) की 1.35 प्रतिशत इक्विटी हिस्सेदारी 46.60 करोड़ रुपए में बेच दी है।

कंपनी ने यह हिस्सा खरीदनेवाले के नाम का खुलासा नहीं किया है।

Hinduja-Ventures-Ltd-coverएचवीएल ने आईएमसीएल के 10 लाख इक्विटी शेयर प्रति शेयर 466 रुपए के भाव से बेचे हैं। इस तरह आईएमसीएल का मूल्यांकन उसने 3444.06 करोड़ रुपए लगाया है। यह सौदा एक बाहरी पक्ष द्वारा किए गए स्वतंत्र मूल्यांकन पर आधारित है।

इस बिक्री के बाद आईएमसीएल में कंपनी की शेयरधारिता घटकर 60.56 प्रतिशत पर आ गई है। इससे पहले उसकी शेयरधारिता आईएमसीएल में 61.91 प्रतिशत रही थी।

इसी साल जुलाई में एचवीएल ने आईएमसीएल में अतिरिक्त 5.82 प्रतिशत मालिकाना अपनी सब्सिडियरी ग्रांट इन्वेस्ट्रेड लिमिटेड (जीआईएल) से 200.5 करोड़ रुपए में खरीदा था। इस सौदे के बाद आईएमसीएल में कंपनी की इक्विटी हिस्सेदारी बढ़कर 61.91 प्रतिशत हो गई थी।

कंपनी ने तब आईएमसीएल के 43.03 लाख शेयर प्रति शेयर 456 रुपए के भाव से खरीदे थे।

आईएमसीएल ने बीते वित्त वर्ष 2015-16 में अपना शुद्ध घाटा लगभग 53 प्रतिशत कर लिया है। यह घटकर 112.77 करोड़ रुपए पर आ गया है, जबकि इससे पिछले वित्त वर्ष में उसका शुद्ध घाटा 239.19 करोड़ रुपए रहा था।

हालांकि कंपनी की परिचालन आय इस दौरान 4.58 प्रतिशत घटकर 434.4 करोड़ रुपए पर आ गई। यह उससे पिछले साल में 455.27 करोड़ रुपए रही थी।

इस दौरान कंपनी का कुल सालाना खर्च 688.37 करोड़ रुपए से 13.62 प्रतिशत घटकर 594.55 करोड़ रुपए पर आ गया।

IMCL-cover01आईएमसीएल के पास डिजिटल एड्रेसेबल सिस्टम (डैस) के पहले व दूसरे चरण के इलाकों में 30 लाख डिजिटल ग्राहक है। कंपनी के पास इसके अलावा तीसरे व चौथे चरण के इलाकों में 40 लाख एनालॉग ग्राहक है।

डैस के सभी चरणों के पूरा हो जाने पर आईएमसीएल के पास कुल 70 लाख डिजिटल केबल टीवी ग्राहकों का आधार बन जाने की संभावना है। आईएमसीएल फिलहाल 14 राज्यों में फैले 32 शहरों में मौजूद है।

मालूम हो कि जुलाई में एचवीएल ने जीआईएल के तहत चलाए जा रहे अपने हेडएं-इन-द-स्काई (हिट्स) बिजनेस को आईएमसीएल में मिलाने का फैसला किया था। जीआईएल कोर मिला हिट्स लाइसेंस भी अब आईएमसीएल के पास चला जाएगा। कंपनी ने अपना हिट्स लाइसेंस आईएमसीएल को ट्रांसफर करने के लिए सूचना व प्रसारण मंत्रालय से इजाज़त मांगी है।

जीआईएल को 31 मार्च 2016 को समाप्त वित्त वर्ष में 32.71 करोड़ रुपए का शुद्ध घाटा लगा है। वित्त वर्ष के दौरान कंपनी की कुल आय 22.40 करोड़ रुपए रही है, जबकि उसका खर्च 47.09 करोड़ रुपए का रहा है। जीआईएल के खराब प्रदर्शन में डैस के तीसरे चरण के अमल में हो रही देरी ने अहम भूमिका निभाई।

यह भी पढ़ें: