लाइव पोस्ट
चीन में शुरू हुआ दुनिया का सबसे ऊंचा पुल, 14.40 करोड़ डॉलर से बना
नोटबंदी को लेकर तृणमूल कांग्रेस का पीएम मोदी पर कटाक्ष- 'उम्मीद है कल बड़ी घोषणा करेंगे'
सीतापुर में यात्रियों से भरी बस नदी में पलटी, बचाव कार्य जारी
झारखंड में कोयला खदान के अंदर फंसे मजदूर, 10 शव निकाले गए
दिल्ली हाई कोर्ट ने शादियों के लिए बैंक खाते से 2.5 लाख रुपए निकालने के खिलाफ याचिका खारिज़ की
संसद के दोनों सदनों में नोटबंदी के खिलाफ विपक्षी दलों का हंगामा जारी
घोषित काले धन पर लगेगा 50% टैक्स, लोकसभा ने आयकर अधिनियम में संशोधन पास किया

प्रसारण मंत्रालय ने दिए 37 अनंतिम और दो अखिल भारतीय एमएसओ लाइसेंस

मुंबई: सूचना व प्रसारण मंत्रालय ने 22 अगस्त और 30 सितंबर के बीच 37 नए अनंतिम मल्टी-सिस्टम ऑपरेटर (एमएसओ) लाइसेंस जारी किए हैं। इससे अनंतिम पंजीकरण की कुल संख्या 774 हो गई है। प्रसारण मंत्रालय ने दो नए अखिल भारतीय लाइसेंस जारी किए हैं। इंदौर के हिंदी प्रकाशन दबंग दुनिया पब्लिकेशन और मुंबई के अल्फा केबल को पूरे भारत के लिए लाइसेंस प्रदान किया गया है।

इन नए अनुमति के साथ, कुल एमएसओ लाइसेंस का आंकड़ा 1000 को पार कर गया है।
अनंतिम लाइसेंस में से अधिकांश या तो एक पूरे राज्य के लिए या एक राज्य में विशिष्ट ज़िलों के लिए हैं।

ज़्यादातर पंजीकरण मध्य प्रदेश, ओडिशा, महाराष्ट्र, जम्मू-कश्मीर, गुजरात, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा, पश्चिम बंगाल, मेघालय, तेलंगाना और उत्तर प्रदेश के राज्यों में डिजिटल एड्रेसेबल सिस्टम (डैस) के तीसरे और चौथे चरण के क्षेत्रों के लिए जारी किए गए हैं।

प्रसारण मंत्रालय ने उदयपुर के मातारानी केबल टीवी नेटवर्क के संचालन के क्षेत्र में संशोधन किया है और उसका परिचालन क्षेत्र राजस्थान के पूरे राज्य में कर दिया है।

आंध्र प्रदेश के गुंटूर के ट्वेंटी फर्स्ट सेंचुरी केबल नेटवर्क और केरल के एर्नाकुलम के त्रावणकोर एंटरटेनमेंट नेटवर्क के आवेदनों को अधूरा होने के कारण रद्द कर दिया गया है।

प्रसारण मंत्रालय ने इस साल जनवरी के बाद से किसी को भी स्थायी पंजीकरण नहीं दिया है। स्थायी लाइसेंस की कुल संक्या 229 है। इसके साथ कुल एमएसओ लाइसेंस की संख्या 1,003 तक पहुंच गई है।

List_of_Provisional_Registrations_of_MSOs_as_on_30.09.2016