लाइव पोस्ट
चीन में शुरू हुआ दुनिया का सबसे ऊंचा पुल, 14.40 करोड़ डॉलर से बना
नोटबंदी को लेकर तृणमूल कांग्रेस का पीएम मोदी पर कटाक्ष- 'उम्मीद है कल बड़ी घोषणा करेंगे'
सीतापुर में यात्रियों से भरी बस नदी में पलटी, बचाव कार्य जारी
झारखंड में कोयला खदान के अंदर फंसे मजदूर, 10 शव निकाले गए
दिल्ली हाई कोर्ट ने शादियों के लिए बैंक खाते से 2.5 लाख रुपए निकालने के खिलाफ याचिका खारिज़ की
संसद के दोनों सदनों में नोटबंदी के खिलाफ विपक्षी दलों का हंगामा जारी
घोषित काले धन पर लगेगा 50% टैक्स, लोकसभा ने आयकर अधिनियम में संशोधन पास किया

डिश टीवी ने दूसरी तिमाही में शुद्ध स्तर पर जोड़े 2.49 लाख ग्राहक, कुल आधार डेढ़ करोड़ के पार

मुंबई: डिश टीवी ने चालू वित्त वर्ष 2016-17 में 30 सितंबर को समाप्त दूसरी तिमाही के दौरान शुद्ध स्तर पर 2.49 लाख सब्सक्राइबर जोड़े हैं। इसी के साथ उसके सब्सक्राइबरों की संख्या शुद्ध स्तर पर डेढ़ करोड़ के निशान के पार चली गई है।

30 सितंबर 2016 तक इस डीटीएच ऑपरेटर का शुद्ध सब्सक्राबर आधार 1.51 करोड़ पर पहुंच चुका है।

वित्त वर्ष की पहली तिमाही में डिश टीवी ने शुद्ध स्तर पर 4.02 लाख सब्सक्राइबर जोड़े थे और तिमाही के अंत में उसका शुद्ध सब्सक्राइबर आधार 1.49 करोड़ पर पहुंच गया था।

एआरपीयू में कमी

आलोच्य तिमाही में इस डीटीएच ऑपरेटर की प्रति यूज़र औसत आय (एआरपीयू) ठीक पिछली तिमाही के 174 रुपए से 6.89 प्रतिशत घटकर 162 रुपए पर आ गई है।

शुद्ध लाभ

सितंबर 2016 की तिमाही में कंपनी का शुद्ध लाभ 40.9 करोड़ रुपए से 71.39 प्रतिशत उछलकर 70.1 करोड़ रुपए पर पहुंच गया।

वहीं, उसका परिचालन लाभ (ब्याज, टैक्स, मूल्यह्रास व अमोर्टिजेशन से पूर्व लाभ) पिछली तिमाही के 264.6 करोड़ रुपए की तुलना में 264.2 करोड़ रुपए पर कमोबेश ठहरा रहा। इस दौरान उसका परिचालन लाभ मार्जिन 34 प्रतिशत से थोड़ा-सा घटकर 33.9 प्रतिशत पर आ गया।

Condensed-Quarterly-Statement-of-Operations-Q2-Fy17

परिचालन आय

कंपनी की परिचालन आय भी लगभग समान रही है। इस तिमाही में यह 779.3 करोड़ रुपए है, जबकि ठीक पिछली तिमाही में 778.6 करोड़ रुपए रही थी।

इस बार उसकी सब्सक्रिप्शन आय 728.8 करोड़ रही है, जबकि जून 2016 की तिमाही में 728.2 करोड़ रुपए रही थी।

वहीं इस दौरान उसका खर्च पिछली तिमाही के 513.9 करोड़ रुपए से बढ़कर 515.1 करोड़ रुपए हो गया है।

डिश टीवी का कहना है कि देश में डीटीएच कनेक्शन वाले घरों की संख्या सकल स्तर पर 9 करोड़ से ज्यादा हो चुकी है। इसमें से लगभग 28 लाख सब्सक्राइबर चालू वित्त वर्ष 2016-17 की दूसरी तिमाही में जोड़ गए हैं।

लेकिन कंपनी ने साफ किया है कि वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही आमतौर पर डीटीएच उद्योग के लिए सबसे अच्छी नहीं होती।

EARNINGS-RELEASE-FOR-THE-QUARTER-ENDED-JUNE-30-2016-Q2-Fy17

Jawahar_Goel-150x150दूसरी तिमाही के नतीजों के बारे में बात करते हुए डिश टीवी के चेयरमैन व प्रबंध निदेशक जवाहर गोयल ने कहा, “सब्सक्राइबरों की संख्या में अच्छी वृद्धि से हमारी सब्सक्रिप्शन आय सालाना आधार पर 11.9 प्रतिशत बढ़ी है। परिचालन लाभ मार्जिन 33.9 प्रतिशत पर है। तिमाही के दौरान हमारा शुद्ध लाभ 70.1 करोड़ रुपए रहा है और धनात्मक फ्री कैश फ्लो 79.1 करोड़ रुपए दर्ज किया गया है।”

गोयल ने यह भी कहा कि तिमाही के दौरान सब्सक्राइबरों का बढ़ना अपेक्षा के अनुरूप रहा है। उनका कहना था, “देश के बहुत सारे हिस्सों में मूसलाधार बारिश उपभोक्ताओं को अक्सर नए डीटीएच कनेक्शन की खरीद को टालने के लिए मजबूर कर देती है, जबकि मौजूदा सब्सक्राइबर अगर मौसम काफी खराब रहा तो रिचार्ज करने में देर लगा सकते हैं। वैसे, त्योहारी सीज़न जल्दी शुरू हो जाता है तो बिक्री और रिचार्ज, दोनों ही सामान्य स्थिति में लौट आते हैं।”

भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण (ट्राई) द्वारा टैरिफ आदेश, इंटरकनेक्शन रेग्युलेशन व सेवा की गुणवत्ता (क्यूओएस) पर पेश किए मसौदों के संबंध में गोयल का कहना था कि इनमें कुछ सुधार करने की ज़रूरत है। उन्होंने कैरेज़ फीस के नियमन पर ट्राई के प्रस्ताव की तारीफ की।

उन्होंने अपनी बात साफ करते हुए कहा, “ट्राई के नियमन संबंधी ड्राफ्ट सब्सक्राइबरों की भलाई के इरादे से बनाए गए है। लेकिन इनमें कुछ बातें छूट गई हैं। कहीं न कहीं ज्यादा ही आशावादी मान्यता बना ली गई है। साथ ही कुछ सवाल अनुत्तरित रह गए हैं जिनका समाधान अंतिम आदेश आने तक मिल जाने की आशा है। हम पारदर्शिता व गैर-भेदभाव की भावना की सराहना करते है जो इन ड्राफ्ट आदेशों के पीछे की संचालक शक्ति रही है और आशा करते हैं कि डीटीएच उद्योग को अपना वांक्षित समान धरातल मिल जाएगा। कैरेज़ फीस पर लगाई गई बंदिशें उद्योग के सूक्ष्म माहौल को दुरुस्त में काफी असरकारी होंगी।”

गोयल ने यह भी कहा कि डीटीएच क्षेत्र के लिए नए लाइसेंस की प्रस्तावित  व्यवस्था और वस्तु व सेवा कर (जीएसटी) को राष्ट्रीय स्तर पर लागू किया जाना डीटीएच उद्योग के लिए सकारात्मक कदम हैं। सरकार ने अधिकांश करयोग्य वस्तुओं पर 12 व 18 प्रतिशत की मानक दरों से जीएसटी लगाने का प्रस्ताव रखा है।

एचडी बढ़ाने का अभियान

डिश टीवी की रणनीति हाई डेफिनिशन (एचडी) चैनलों के बाज़ार में जोरशोर से उतर जाने की है। उसने एक नई एचडी स्कीम पेश की है जो ग्राहक को एसडी (स्टैंडर्ड डेफिनिशन) के ऊपर एचडी हार्डवेयर के लिए 120 रुपए अतिरिक्त देकर एचडी बॉक्स लेने का विकल्प देती है। सब्सक्राइबर अब अपने पसंदीदा एसडी पैकेज़ के साथ 75 रुपए का पूर्व-निर्धारित एचडी अ ला कार्टे पैक सब्सक्राइब कर एचडी की शुरुआत कर सकते हैं।

सितंबर 2016 की तिमाही के दौरान डिश टीवी ने केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा शुरू किए गए 32 नए शैक्षणिक चैनलों को अपने प्लेटफॉर्म पर जोड़ा है। इन चैनलों का मसकद देश भर में उच्च गुणवत्ता वाला शैक्षणिक कंटेंट प्रदान करना है। इन्हें डिश टीवी और ज़िंग के प्लेटफॉर्म पर सब्सक्राइबरों के लिए उपलब्ध करा दिया है।