लाइव पोस्ट
चीन में शुरू हुआ दुनिया का सबसे ऊंचा पुल, 14.40 करोड़ डॉलर से बना
नोटबंदी को लेकर तृणमूल कांग्रेस का पीएम मोदी पर कटाक्ष- 'उम्मीद है कल बड़ी घोषणा करेंगे'
सीतापुर में यात्रियों से भरी बस नदी में पलटी, बचाव कार्य जारी
झारखंड में कोयला खदान के अंदर फंसे मजदूर, 10 शव निकाले गए
दिल्ली हाई कोर्ट ने शादियों के लिए बैंक खाते से 2.5 लाख रुपए निकालने के खिलाफ याचिका खारिज़ की
संसद के दोनों सदनों में नोटबंदी के खिलाफ विपक्षी दलों का हंगामा जारी
घोषित काले धन पर लगेगा 50% टैक्स, लोकसभा ने आयकर अधिनियम में संशोधन पास किया

डिजिटल दौर में सामने आते जा रहे हैं नए ज़माने के नए-नए कंटेंट सेलिब्रिटी

मुंबई: अरुनभ कुमार ने छह साल पहले जब बेब के लिए बनाए गए एपिसोड की स्क्रिप्ट के साथ एक प्रोडक्शन हाउस से संपर्क किया तो उन्हें साफ मना कर दिया गया और कहा गया कि वेब के लिए विशेष तौर पर कंटेंट बनाना अभी बहुत ही जल्दी है। फरवरी 2012 में कुमार ‘द वायरल फीवर’ के बैनर तले पहला वीडियो जारी किया और अब लोकप्रिय वेब सीरीज़ ‘पिचर्स’ के लिए जाने जाते हैं।

Anagha-Rajadhyakshaअनघा राजाध्यक्ष ने एक विशिष्ट सेगमेंट की पहचान की कि वीडिया कैसे बनाएं। वे कहती हैं, “लोग अच्छी रेसिपी खोजना बंद नहीं करने जा रहे – मसलन, दाल मखनी कैसे बनाई जाए।” इसी क्रम में अनघा में पिंग डिजिटल ब्रॉडकास्ट बना डाली। कंपनी ने पास-पड़ोस के लड़के / लड़कियों या आंटी / अंकलों को सामने लाने का काम किया जो अपने पर्याप्त चाहनेवालों के साथ अब हीरो बन गए हैं।

ईस्ट इंडिया कंपनी के संस्थापक, स्टैंड-अप कॉमेडियन कुणाल राव ने अपना ही डिजिटल चैनल लॉन्च करने का फैसला किया। कुणाल बताते हैं, “हमने भारत में लाइव अंग्रेजी कॉमेडी के बारे में जागरूकता पैदा करने के इरादे से शुरुआत की। पहले मैं इसमें दिलचस्पी पैदा करने के लिए 80 दिनों तक तमाम शहरों में शोज़ करता रहता था। अब, मैं बस एक पांच मिनट का वीडियो अपलोड कर देता हूं और दर्शकों की कहीं ज्यादा बड़ी संख्या तक पहुंच जाता हूं।”

नए दौर के इन कंटेंट सेलिब्रिटी हस्तियों का स्वागत कीजिए जो ऐसे डिजिटल दर्शकों के लिटमस टेस्ट से गुजरने से नहीं डरते जो कभी माफ नहीं करते और बराबर विकसित होते रहते हैं। अनघा कहती हैं, “हमने एक बार एक बंगाली शेफ रखा जिसने एक पंजाबी रेसिपी बना दी। हमारे चाहनेवालों से इस खूब पसंद किया।”

विज्ञापनदाता अब डिजिटल माध्यम और उसके द्वारा पकड़ने जा रहे दर्शकों को अनदेखा नहीं कर सकते। लेकिन डिजिटल विज्ञापन बड़े सूक्ष्म तरीके से किए जाने चाहिए नहीं तो बेकार जाते हैं।

टेरिबली टाइनी टेल्स के सह-संस्थापक व सीईओ अनुज गोसालिया बताते हैं, “हम ब्रांड के नाम का उल्लेख किए बिना कॉरनेट्टो के लिए छोटी कहानियों की एक सीरीज़ बनाई। अभियान #ShareTheLove को भारी प्रतिसाद मिला। इस सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए उनकी कंपनी इस साल कॉरनेट्टो के लिए 100 नई कहानियां बनाने जा रही है।

अनुज की कंपनी ने इस ब्रांड से लाखों में अच्छी कमाई कर ली। लेकिन हर विज्ञापनदाता इतना देने को तैयार नहीं होता।

क्यूकि के सह-संस्थापक व प्रबंध निदेशक समीर बनगारा कहते हैं, “ब्रांडेड कंटेंट डिजिटल कंटेंट बनानेवालों के लिए एक माध्यम है, लेकिन मोबाइल ट्रैफिक बढ़ने के बावजूद विज्ञापन से आय अभी तक बढ़ नहीं सकी है।”

अनघा बताती हैं, “हमें अपने नेटवर्क पर महीने में लगभग 12 करोड़ व्यूज़ मिलते हैं जिसमें से 90 करोड़ व्यूज़ मोबाइल से आते हैं। फिर भी विज्ञापन बिक्री में जान नहीं आ रही। यह एक ऐसा दौर है जो समय के साथ बदल जाएगा।”

वैसे तो इस माध्यम से दर्शकों को हासिल करने की लागत ब्रांडों के लिए नगण्य है, फिर भी यहां मोनेटाइजेशन की मुश्किल बनी हुई है। मसलन, सलमान खान अभिनीत फिल्म ‘प्रेम रतन धन पायो’ ने बॉक्स ऑफिस पर ज्यादा जादू नहीं दिखा सकी। लेकिन क्लिक डिजिटल स्टूडियो द्वारा पेश इसके स्पूफ या मजाकिया नकल ने डिजिटल माध्यम पर दर्शकों के बीच इतना धमाल मचाया कि फिल्म के प्रोड्यूसर राजश्री प्रोडक्शंस ने वीडियो के लिए दावा करने का फैसला कर लिया!

डिजिटल कंटेंट निर्माता/पब्लिशर के सामने एक चुनौती सब्सक्रिप्शन की है। हालांकि चैनल का सब्सक्रिप्शन मुफ्त है, लेकिन देखनेवाले सब्सक्राइब करने से बचते हैं। राजश्री एंटरटेनमेंट के प्रबंध निदेशक व सीईओ रज्जत बड़जातिया कहते हैं, “इसकी एक वजह यह है कि औसत भारतीय यूज़र सब्सक्रिप्शन को फीस से जोड़कर देखता है। डिजिटल दर्शकों को बताने की ज़रूरत है कि चैनलों को सब्सक्राइबर करने पर कोई पैसा खर्च नहीं करना पड़ता।”