लाइव पोस्ट

भारत में 85% कनेक्टेड ग्राहक हर हफ्ते ऑनलाइन वीडियो कंटेंट देखते हैं: कानटार

भारत में ऑनलाइन वीडियो को रोज़ाना की आदत का मुख्य हिस्सा बनने में मुख्य बाधा डेटा के मंहगे दाम और खराब कनेक्टिविटी है। जियो के लॉन्च के साथ डेटा के दाम नीचे आ गए हैं; इसके साथ ही सार्वजनिक वाई-फाई की बेहतर उपलब्धता से बाधाएं मिटेन लगेंगी।

मोदी और ट्रम्प के कारण दो दिन में भारतीय न्यूज़ चैनलों के दर्शक 37.3% बढ़े

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने 8 और 9 नवंबर को न्यूज़ चैनलों पर बड़े पैमाने पर दर्शकों को आकर्षित किया। इस दौरान अंग्रेज़ी न्यूज़ चैनलों के दर्शक संख्या में 83.4% की भारी वृद्धि हुई है।

स्टार ने ‘नई सोच’ अभियान में बीसीसीआई से हुए स्पॉन्सरशिप करार का फायदा उठाया

बीसीसीआई के साथ अपने शर्ट स्पॉन्सरशिप समझौते का इस्तेमाल करते हुए स्टार ने भारतीय क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी, विराट कोहली और अजिंक्य रहाणे के साथ ‘नई सोच’ नाम का एक नया अभियान शुरू किया है। यह अभियान स्टार प्लस को प्रमोट करता है।

स्मार्टफोन विज्ञापनदाता और मोबाइल ऑपरेटर कैसे तय करते हैं अपना विज्ञापन खर्च

स्मार्टफोन विज्ञापनदाता अपने विज्ञापन बजट खर्च का अधिक हिस्सा हिन्दी के सामान्य मनोरंजन चैनलों पर लगाते हैं। दूसरी तरफ, मोबाइल ऑपरेटरों का झुकाव अपने टीवी विज्ञापनों को चलाने के लिए अंग्रेजी फिल्म चैनल की तरफ ज्यादा है।

वैश्विक मीडिया नेटवर्क कैरेट भारत के विज्ञापन बाज़ार को लेकर इतना उत्साहित क्यों!

भारत धीरे-धीरे मोबाइल को तरजीह देनेवाले देश से केवल मोबाइल वाले देश में बदलता जा रहा है। मोबाइल पर विज्ञापन खर्च 2016 में 27.2% और 2017 में 35.1% बढ़ने का अनुमान है। कैरेट का यह भी कहना है कि 2013 से ही भारत में विज्ञापन आय लगातार बढ़ रही है।

नए विधेयक में विज्ञापन संदेशों में सेलिब्रिटी की जवाबदेही तय करेगी सरकार

कानून मंत्रालय ने सेलेब्रिटीज़ को विज्ञापन द्वारा गुमराह करने के लिए उत्तरदायी ठहराने के लिए मौजूदा कानूनी व्यवस्था में महत्वपूर्ण बदलाव को मंज़ूरी दे दी है। उम्मीद है कि जल्दी ही इन बदलावों को मंत्रिमंडल की बैठक में भी मंज़ूरी मिल जाएगी।

#ज़ीमाइंडस्पेस अवॉर्ड्स के पहले संस्करण में हिंदुस्तान यूनिलीवर रहा सबसे आगे

हिंदुस्तान यूनिलीवर पांच श्रेणियों में पुरस्कार जीतकर सबसे आगे रहा। वहीं, एलजी कॉर्प ने तीन पुरस्कार जीते हैं। इन अवॉर्ड्स का उद्देश्य उन ब्रांडों को सम्मान देना है जिन्होंने ज़्यादा से ज़्यादा ‘माइंडस्पेस’ यानी दिमाग पर कब्जा किया है।

पतंजलि विज्ञापन विवाद में एएससीआई से भिड़ने को तैयार, जा सकता है कोर्ट

पतंजलि इस समय बड़ी विज्ञापनदाता कंपनियों में शुमार हो चुकी है। वो एएससीआई को कुछ बहुराष्ट्रीय कंपनियों के प्रभाव में काम करनेवाले निकाय के रूप में पेश कर रही है। उसका कहना है कि इसी वजह से एएससीआई उसके खिलाफ फैसले दे रहा है।

पब्लिसिस मीडिया ने बदला सांगठनिक स्वरूप, महत्वपूर्ण पदों पर नियुक्तियों की घोषणा

पब्लिसिस मीडिया इंडिया अपने एजेंसी ब्रांडों को चार एजेंसियों में एकीकृत कर मज़बूत करेगा। ये स्टारकॉम, जेनिथ, मीडियावेस्ट-स्पार्क और ऑप्टीमीडिय-ब्लू 449 हैं। पर्फोर्मिक्स वैश्विक प्रदर्शन मार्केटिंग ब्रांड बना रहेगा और सभी एजेंसी ब्रांडों का पैमाना बढाएगा।

डब्ल्यूपीपी को यूरोपीय संघ से ब्रिटेन निकासी के बावजूद भारत में 20% वृद्धि की अपेक्षा

यूरोपीय संघ से ब्रिटेन के निकल जाने से भले ही दुनिया के बाजारों पर असर पड़ रहा हो, लेकिन डब्ल्यूपीपी को अपेक्षा है कि चालू वित्त वर्ष में भारत में 20 प्रतिशत वृद्धि हासिल कर ली जाएगी।