लाइव पोस्ट
चीन में शुरू हुआ दुनिया का सबसे ऊंचा पुल, 14.40 करोड़ डॉलर से बना
नोटबंदी को लेकर तृणमूल कांग्रेस का पीएम मोदी पर कटाक्ष- 'उम्मीद है कल बड़ी घोषणा करेंगे'
सीतापुर में यात्रियों से भरी बस नदी में पलटी, बचाव कार्य जारी
झारखंड में कोयला खदान के अंदर फंसे मजदूर, 10 शव निकाले गए
दिल्ली हाई कोर्ट ने शादियों के लिए बैंक खाते से 2.5 लाख रुपए निकालने के खिलाफ याचिका खारिज़ की
संसद के दोनों सदनों में नोटबंदी के खिलाफ विपक्षी दलों का हंगामा जारी
घोषित काले धन पर लगेगा 50% टैक्स, लोकसभा ने आयकर अधिनियम में संशोधन पास किया

आईपीएल ने दो नई टीमों के लिए किया टेंडर जारी

मुंबई: इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में अब 10 टीमें होंगी। गुरुवार को कोलकाता में हुई एक बैठक में आईपीएल की गवर्निंग काउंसिल ने राजस्थान रॉयल्स (आरआर) और चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) को निलंबित करने के जज आरएम लोढ़ा कमिटि के निर्णय के मद्देनजर अगले दो सीज़न के लिए आठ टीम का संतुलन बनाए रखने के लिए दो नई टीमों के लिए टेंडर जारी करने का फैसला किया है।

मद्रास हाई कोर्ट द्वारा दो साल के निलंबन के आदेश के खिलाफ चेन्नई सुपरकिंग्स को अंतरिम राहत देने से मना कर देने के बाद बीसीसीआई को यह निर्णय लेना पड़ा। इसका मतलब यह है कि चेन्नई सुपरकिंग्स और आरआर के निलंबन की अवधि खत्म होने के बाद 2018 से आईपीएल में 10 टीमें होंगी।

ये टेंडर बीसीसीआई की अगले महीने होने वाली वार्षिक आम बैठक (एजीएम) के बाद जारी किए जाने की संभावना है।

चार सदस्यीय आईपीएल वर्किंग ग्रुप ने गवर्निंग काउंसिल के सदस्यों के सामने दो विकल्प रखे। पहला विकल्प चेन्नई सुपरकिंग्स और आरआर की निलंबित टीमों द्वारा पैदा हुआ शून्य भरने के लिए दो नई आईपीएल टीमों के लिए दो साल का टेंडर जारी करना है।

दूसरा विकल्प 10 साल के लिए दो नई टीमों के टेडर आमंत्रित करने का है। इसका मतलब यह होगा कि लीग में दो साल बाद चेन्नई सुपर किंग्स और आरआर की वापसी से आईपीएल में कुल 10 टीमें हो जाएंगी।

आज मिलने वाली बीसीसीआई की वर्किंग कमिटी, आईपीएल की गवर्निंग काउंसिल की सिफारिशों पर अंतिम फैसला करेगी।

इंडियन एक्सप्रेस की एक खबर में आईपीएल गवर्निंग काउंसिल के सदस्य के हवाले से कहा गया है,
“हमने फैसला किया है कि दो नई फ्रेंचाइज़ी के लिए टेंडर जारी करना सबसे अच्छा विकल्प है। दो पर लगा प्रतिबंध खत्म हो जाने पर 2018 में आईपीएल में 10 टीमों में स्पर्धा होगी। हमने लोढ़ा कमिटी के फैसले का सम्मान करने के लिए यह फैसला किया है। हमने इससे क्रिकेट को साफ-सुथरा बनाने और पारदर्शिता वापस लाने का फैसला किया है। अंतिम निर्णय वर्किंग कमिटी पर टिका हुए है।”