लाइव पोस्ट

चौबीस घंटे के विज्ञान व टेक्नोलॉजी चैनल की ज़रूरत: श्याम बेनेगल

मुंबई: दिग्गज फिल्म निर्माता श्याम बेनेगल ने देश में वैज्ञानिक सोच को बढ़ावा देने के लिए 24 घंटे के एक समर्पित विज्ञान व टेक्नोलॉजी टेलिविज़न चैनल के लिए वकालत की है।

मुंबई के नेहरू साइंस सेंटर में आगामी राष्ट्रीय विज्ञान फिल्म महोत्सव के बारे में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए बेनेगल ने कहा, “एक समर्पित टीवी चैनल लोगों के बीच वैज्ञानिक मिजाज़ और तर्कसंगत सोच फैलाने में मदद करेगा।”

Inauguration-of-New-Science-Odyssey-Film-Adrenaline-Rush-The-Science-of-Risk-2बेनेगल ने कहा कि अन्य बातों के अलावा विज्ञान, टेक्नोलॉजी, पर्यावरण, स्वास्थ्य और स्वच्छता के मुद्दों को उभारने के लिए इस तरह का चैनल समय की मांग है। बेनेगल ने कहा, “24-घंटे का विज्ञान व टेक्नोलॉजी का टीवी चैनल वैज्ञानिक मिजाज़ फैलाने और तर्कसंगत समाज बनाने की खोज में अपने प्राण देने वाले स्वर्गीय नरेंद्र दाभोलकर के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी।”

बेनेगल ने नेहरू साइंस सेंटर और भारत सरकार के विज्ञान व टेक्नोलॉजी मंत्रालय के तहत एक स्वायत्त निकाय, विज्ञान प्रसार की तरफ से 9 से 13 फ़रवरी तक मुंबई में 6ठां राष्ट्रीय विज्ञान फिल्म समारोह का आयोजन मिलकर करने के लिए प्रशंसा की।

उन्होंने जानकारी दी कि 45 फिल्मों को समारोह के दौरान दिखाए जाने के लिए चुना गया है। उन्होंने कहा, “जूरी को प्रोफेशनल और स्कूली छात्रों द्वारा बनाई गई गुणवत्ता वाली फिल्मों को देखकर सुखद आश्चर्य हुआ है। फिल्मों में से कुछ देश के दूरदराज के क्षेत्रों से है और अधिकांश में पर्यावरण, आजीविका, स्वास्थ्य व स्थानीय नवाचार के स्थानीय मुद्दे उठाए गए हैं।”

विजेता फिल्मों को सिल्वर बीवर पुरस्कार और नकद पुरस्कार दिए जाएंगे। श्याम बेनेगल राष्ट्रीय जूरी की चेयरपर्सन हैं। जूरी के अन्य सदस्यों में वरिष्ठ लेखिका और कला निर्देशक शमा जैदी, फिल्म संपादक असीम सिन्हा, नई दिल्ली में एजेके एमसीआरसी के निदेशक प्रोफैसर इफ्तिखार अहमद, प्रसार भारती की एडीजी अपर्णा वैश्य, टीआईएफआर के प्रतिष्ठित प्रोफेसर डॉ सब्यसाची भट्टाचार्य, लेखक, फिल्म विचारक, क्यूरेटर और इतिहासकार अमृत ​​गंगर, फिल्म निर्माता अरुणा राजे पाटिल और पर्यावरणविद् डॉ अनिल पी जोशी शामिल हैं।

एनएसएफएफ 2016 के दौरान विज्ञान फिल्म बनाने पर प्रोफैशनल वर्कशॉप का आयोजन भी किया जाएगा जिसमें प्रसिद्ध विज्ञान फिल्मकार प्रतिभागियों के साथ अपना अनुभव साझा करेंगे।