लाइव पोस्ट

विज्ञापन समय की फांस गहरी!

इनवेंटरी की कमी की भरपाई के लिए हिंदी के मनोरंजन चैनलों को विज्ञापन की दर 15-25% बढ़ानी पड़ेगी। ब्रॉडकास्टरों को हर साल विज्ञापन की दरें बढानी पड़ सकती हैं। विज्ञापनदाताओं को ज्यादा दाम देने को तैयार करना बहुत कठिन होगा, खासकर तब, जब चैनल के दर्शक घट रहे हों। टेलिविज़न पोस्ट की विशेष रिसर्च में 12 मिनट विज्ञापन की सीमा के असर की पड़ताल...