लाइव पोस्ट
Tags : %E0%A4%AD%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%A4

अमेरिका व ब्रिटेन की तुलना में भारत के ज्यादा लोगों में पायरेटेड कंटेंट का झुकाव: इरडेटो रिसर्च

युवा लोगों के बीच पायरेटेड कंटेंट देखने का चलन काफी ज्यादा रहता है। लेकिन उनकी यह चाहत आमतौर पर उम्र बढ़ने के साथ घट जाती है। यह बात इरडेटा की सर्वेक्षण आधारित एक नई वैश्विक रिसर्च से सामने आई है।

हैदराबाद पुलिस ने सैटेलाइट टीवी सिग्नल की चोरी का रैकेट पकड़ा

सैटेलाइट टीवी पायरेसी पर धावा बोलते हुए हैदराबाद पुलिस ने अमेरिका की ओटीटी कंपनी जादू टीवी को लाइव स्ट्रीमिंग देने के लिए भारतीय टीवी चैनलों के सिग्नलों की चोरी के आरोप में चार लोगों को गिरफ्तार किया है।

फीफा ने भारत में अंडर-17 वर्ल्ड कप के आयोजन के लिए निकाले 3.8 करोड़ डॉलर

फीफा ने साल 2017 में भारत में अंडर-17 वर्ल्ड कप का बिना किसी अड़चन के आयोजन हो सके, इसके लिए 3.8 करोड़ डॉलर की रकम तय कर दी है।

अटलांटिक मीडिया ने बिजनेस न्यूज़ ब्रांड क्वार्ट्ज़ का भारतीय संस्करण पेश किया

क्वार्ट्ज़ इंडिया की ब्रांडिंग एकदम अलग होगी। इसमें विशेष ‘ऑब्सेशंस’ और इलाके से जुड़ी खबरों की पूरी समर्पित कड़ी होगी। इधर भारत अमेरिका के प्रकाशकों के लिए आकर्षक बाज़ार बनकर उभरा है। डिजिटल न्यूज़ पोर्टल हफिंग्टन पोस्ट भी भारतीय संस्करण लाने जा रहा है।

भारत 2015 में डिजिटल टीवी घरों वाला दूसरा सबसे बड़ा देश होगा

भारत 2015 में अमेरिका को पीछे छोड़कर दुनिया में दूसरा सबसे ज्यादा डिटिजल टीवी घरों वाला देश बन जाएगा। चीन इस मामले में 2010 में पहले नंबर पर पहुंच चुका है। 2020 के अंत तक चीन में डिजिटल टीवी वाले 46 करोड़ घर होंगे।

टी20 वर्ल्ड कप ने इस साल बनाया दर्शकों का रिकॉर्ड

टी20 वर्ल्ड कप 2014 टीवी व डिजिटल क्षेत्र में सबसे ज्यादा देखा गया अंतरराष्ट्रीय टी20 टूर्नामेंट बनकर उभरा है। देश भर में इसे 13.31 करोड़ दर्शकों ने देखा है। यह संख्या साल 2012 के संस्करण से 23.4% और साल 2010 के संस्करण से 57% ज़्यादा है।

एसईएस दुनिया भर में पहुंचा 29.10 करोड़ टीवी वाले घरों तक, भारत ने दिया 18% योगदान

एसईएस ने दुनिया भर में टीवी वाले 29.10 करोड़ घरों तक पहुंच बना ली है। इसमें भारत का योगदान 18 प्रतिशत रहा है।

भारत एशिया-प्रशांत क्षेत्र में पे-टीवी का दूसरा सबसे ज्यादा फायदे वाला बाज़ार बनेगा

डिजिटल टीवी रिसर्च की एक नई रिपोर्ट का आकलन है कि भारत 2019 तक पे-टीवी के मामले में एशिया प्रशांत क्षेत्र में चीन के बाद दूसरा सबसे ज्यादा फायदे वाला बाज़ार बन जाएगा।

एमएसएम टेलिकास्ट का सारा काम सिंगापुर से भारत लाएगा

मल्टी स्क्रीन मीडिया अपने सभी चैनलों के टेलिकास्ट का कामकाज़ सिंगापुर से भारत ले आएगा। ऐसा कर ढांचे को सरल बनाने की योजना के तहत किया जा रहा है। कंपनी को एफआईपीबी, हाईकोर्ट और रिजर्व बैंक की अनुमति मिल चुकी है। अब केवल सूचना व प्रसारण मंत्रालय की मंजूरी ली जानी है।

एएक्सएन का सारा ध्यान अब बांधे रखनेवाले शोज़ और 2014 में आय 15% बढ़ाने पर

साल 2014 में एएक्सएन का ध्यान ऐसे शोज़ पर होगा जो लोगों को बांध सकें। वह अमेरिका में शो आने के आसपास ही उन्हें भारत में ले आ जाएगा। साथ ही शनिवार व रविवार को वह नए एपिसोड के लिए स्लॉट बनाएगा। टेलिविज़न पोस्ट यहां वे चुनौतियां ही पेश कर रहा है जिनके साथ एएक्सएन को इस साल दो-चार होना पड़ेगा।