लाइव पोस्ट

बालाजी ने अपना ओटीटी प्लेटफॉर्म ऑल्ट मार्च तिमाही में लाने की योजना बनाई

मुंबई: टीवी व फिल्म कंटेंट बनानेवाली कंपनी, बालाजी टेलिफिल्म्स की योजना ‘ऑल्ट’ ब्रांड के तहत अपनी ओवर-द-टॉप (ओटीटी) सेवा चालू वित्त वर्ष 2015-16 की आखिरी यानी मार्च तिमाही में शुरू करने की है। कंपनी के ओटीटी बिजनेस को ऑल्ट डिजिटल के अंतर्गत चलाया जाएगा।

योजना के अनुसार, ऑल्ट मोबाइल एप्लिकेशन या एप्प और वेबसाइट, चालू वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में लॉन्च की जाएगी, जबकि टेक्नोलॉज़ी का विकास, कंटेंट का निर्माण, प्रोमो लांच, प्री-लॉन्च मार्केटिंग और बीटा या प्रायोगिक लॉन्च अभी चल रही तीसरी तिमाही में ही कर दिया जाएगा।

कंपनी के निदेशक बोर्ड ने हाल ही में 250 करोड़ रुपए जुटाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

जैसा कि टेलिविज़न पोस्ट पहले ही खबर दे चुका है कि इस प्रोडक्शन हाउस का इरादा अपने ओटीटी प्लेटफॉर्म पर 250 करोड़ रुपए निवेश करने का है। इसमें से टेक्नोलॉज़ी पर करीब 50 करोड़ रुपए जाएंगे और निवेश का बाकी 75 प्रतिशत हिस्सा कंटेंट निर्माण व मार्केटिंग वगैरह पर लगाया जाएगा।

बालाजी टेलिफिल्म्स की योजना विविध किस्म का मौलिक कंटेंट देकर बढ़ाया जा सकनेवाला और लाभप्रद डायरेक्ट-टू-कंज्यूमर (डी2सी) बिजनेस बनाना है। कंपनी का मानना है कि इस तरह सीधे उपभोक्ता तक पहुंचने का डिजिटल बी2सी बिजनेस भविष्य में उसका मूलाधार बन जाएगा।

जब दर्शक मोबाइल व अन्य कनेक्टेड डिवाइसों जैसे गैर-पारंपरिक मीडिया की तरफ तेज़ी से बढ़े जा रहे हैं, तब कंपनी को अपना खुद का ओटीटी प्लेटफॉर्म लॉन्च करने में अच्छा मौका नज़र आ रहा है।

कंपनी चाहती है कि वो सीधे उपभोक्ता तक पहुंच जाए और उसका बौद्धिक संपदा (आईपी) अधिकार भी बना रहे। इस समय प्रोडक्शन हाउस के पास कंटेंट बनाने के बावजूद उसका आईपी नहीं होता क्योंकि उस पर स्वामित्व ब्रॉडकास्टर का होता है।

ऑल्ट के माध्यम से बालाजी टेलिफिल्म्स धारदार व मौलिक कंटेंट की व्यापक विविधता पेश करेगी। इस कंटेंट को खासतौर पर ओटीटी प्लेटफॉर्म के लिए बनाया जाएगा। इसमें मौलिक और क्यूरेटेड, दोनों किस्म का कंटेंट होगा।

इस ओटीटी सेवा में आय हासिल करने के दो मॉडल होंगे। एक है सब्सक्रिप्शन आधारित फ्रीमियम (कुछ कंटेंट मुफ्त और प्रीमियम कंटेट सब्सक्रिप्शन पर) मॉडल और दूसरा है विज्ञापन, लाइसेंसिंग व स्पांसरशिप के जरिए आय हासिल करना।

ऑल्ट का मुख्य लक्षित आयु समूह 19 से 34 साल उम्र का है। वो ऐसे युवा शहरी दर्शकों को पकड़ना चाहता है जो टीवी के बाहर अपनी सुविधा के अनुसार कंटेंट हासिल करना चाहते हैं।

बालाजी की योजना देश में इंटरनेट बैंडविड्थ के आसन्न विस्फोट पर सवारी करने के लिए विश्वस्तर की सबसे अच्छी टेक्नोलॉज़ी अपनाने की है। ओटीटी सेवा में विविध स्क्रीनों पर स्ट्रीमिंग के साथ ऑफ़लाइन देखने का विकल्प भी दिया जाएगा।

डिजिटल माध्यम में जिस तरह खपत बढ़ रही है, उसमें दर्शक स्तरीय व मौलिक कंटेंट की मांग करने लगे है और दर्शकों का छोटा, मगर बढ़ता हिस्सा है जो इस तरह के कंटेंट का वाजिब दाम देने को तैयार है।

कंपनी का मानना है कि ब्रॉडबैंड और स्मार्टफोन के प्रसार से बाज़ार विकसित होने की प्रक्रिया को गति मिलेगी और वाजिब दाम पर कंटेंट देने की स्थिति मजबूत होती जाएगी। उसे इस बात का भी भरोसा है कि निवेशक आकर्षक मूल्यांकन पर इस तरह के बिजनेस मॉडल का साथ देने के लिए तैयार हैं।