लाइव पोस्ट

बालाजी टेलिफिल्म्स कामकाज के समेकन के लिए समूह की संरचना को कर रही है व्यवस्थित

मुंबई: बालाजी टेलिफिल्म्स लिमिटेड (बीटीएल) समान बिजनेस हितों को मिलाने, पूंजी के आवंटन को सुधारने, परिचालन क्षमता को बढ़ाने और कैश फ्लो को अभीष्टतम स्तर तक पहुंचाने के लिए अपने समूह की संरचना को व्यवस्थित कर रही है।

बालाजी मोशन पिक्चर्स लिमिटेड (बीएमपीएल) के फिल्म प्रोडक्शन उपक्रम को अलग करके बीटीएल में मिला दिया जा रहा है। इस कदम से बीटीएल अपने कंटेंट प्रोडक्शन बिजनेस को सुदृढ़ बनाने में सक्षम हो जाएगी। डीमर्जर के बाग बीएमपीएल फिल्म डिस्ट्रीब्यूशन बिजनेस पर फोक करेगी।

नई संरचना के तहत बोल्ट मीडिया लिमिटेड को बीटीएल के साथ मिला दिया जाएगा। बोल्ट फिलहाल बीटीएल की तरह का ही बिजनेस कर रही है तो बीटीएल के साथ एकीकरण से समूह को अपनी प्रोडक्शन गतिविधियों का केंद्रित व कारगर उपयोग करने में मदद मिलेगी।

Ekta-Kapoor1बीएमपीएल और बोल्ट, दोनों ही बीटीएल की पूर्ण स्वामित्व वाली सब्सिडियरी इकाइयां हैं। इसलिए नई व्यवस्था व विलय से बीटीएल की बीटीएल की शेयर पूंजी पर कोई असर नहीं पड़ेगा। हालांकि, बीएमपीएल की शेयर पूंजी योजना के कार्यान्वयन के बाद कम हो जाएगी।

पुनर्गठन की इस योजना को  बीटीएल के निदेशक बोर्ड की की मंजूरी मिल गई है। बीटीएल की संयुक्त प्रबंध निदेशक एकता कपूर का कहना है, “बीएमपीएल के डीमर्जर और बोल्ट के विलय की स्कीम हमें तमाम जॉनरों व फॉर्मैट में अपनी कंटेंट निर्माण क्षमता पर ज्यादा दक्षता से ध्यान देने में मदद करेगी।”
स्कीम से नीचे लिखे काम करने में मदद मिलेगी:

> समूह की संरचना को व्यवस्थित करना: स्कीम से अपेक्षा की जा रही है कि वो क्षमता बढ़ाएगी और समान बिजनेस हितों को मिला देगी। साथ ही परिचालन मेलजोल से प्रबंधन का बिखराव कम होगा और प्रशासन में दक्षता आएगी।

> बिजनेस कामकाज़ का समेकन: स्कीम से उम्मीद है कि आर्थिक संसाधनों का कुशलतम इस्तेमाल करेगी, पूंजी के आवंटन को सुधारेगी, प्रक्रियाएं को एकीकरण करेगी और कैश फ्लो को अभीष्टतम स्तर तक पहुंचाएगी। इस तरह बीटीएल के समग्र विकास संभावनाओं को निखारेगी।

> लागत में कमी: स्कीम से बीटीएल, बीएमपीएल और बोल्ट के संसाधनों के साझा इस्तेमाल में मदद मिलेगी। इससे संसाधनों को ज्यादा उत्पादक उपयोग होगा और लागत व परिचालन दक्षता बढ़ेगी जिससे सभी हितधारकों का फायदा होगा।

Sameer-Nairबीटीएल के ग्रुप सीईओ समीर नायर का कहना है, “हम मार्जिन और लाभप्रपदता को सुधारने के लिए प्रतिबद्ध हैं और हमारे परिचालन का समेकन उसी दिशा में उठा कदम है। यह वरिष्ठ प्रबंधन की बैंडविड्थ के ज्यादा सक्षम उपयोग को सुनिश्चित करेगी। इससे हमने नए डिजिटल उद्यम ऑल्ट डिजिटल पर फोकस करने पर ज्यादा समय दे पाएंगे। यह उद्यम भारत और सारी दुनिया में भारतीयों के मनोरंजन देखने के अनुभव को पुनःपरिभाषित करने जा रहा है।”

इस पुनर्गठन में एक्सिस कैपिटल सलाहकार का काम कर रही है, जबकि शार्दुल अमरचंद मंगलदास एंड कंपनी, एडवोकेट्स एंड सॉलिसिटर्स बीटीएल के कानूनी सलाहकार की भूमिका निभाएंगे।