लाइव पोस्ट

फूडफूड में बहुमत हिस्सा खरीदेगा डिस्कवरी, एस्ट्रो निकलेगा बाहर

मुंबई: फूडफूड चैनल को चला रही और उसकी मालिक कंपनी टर्मेरिक विज़न में डिस्कवरी एक महत्वपूर्ण बहुमत हिस्सेदारी खरीद रहा है, जबकि मलयेशिया की कंपनी एस्ट्रो उससे बाहर निकल रही है। इस घटनाक्रम से जुड़े एक करीबी सूत्र ने बताया, “एस्ट्रो और संदीप गोयल की मोगी कंसल्टेंट्स इस उद्यम से बाहर निकल जाएगी। डिस्कवरी और संस्थापक-प्रमोटर व सेलिब्रिटी शेफ संजीव कपूर टर्मेरिक विज़न में शेयरधारकों हो जाएंगे।”

सूत्र ने बताया कि फिलहाल टर्मेरिक विज़न में एस्ट्रो की लगभग 73 प्रतिशत इक्विटी हिस्सेदारी है जबकि कपूर व मोगी कंसल्टेंट्स बाकी हिस्से के मालिक हैं। इसमें मोगी कंसल्टेंट्स की फिहहला करीब 5 प्रतिशत हिस्सेदारी है।

Discovery_Network.svg_कपूर और गोयल शुरू में टर्मेरिक विज़न में एस्ट्रो की हिस्सेदारी को खरीद लेंगे। कपूर के पक्ष में लगभग 80 प्रतिशत शेयरधारिता आ जाएगी और गोयल के पास शेष हिस्सा होगा।

डिस्कवरी बाद में गोयल के शेयर खरीदेगा और कपूर की हिस्सेदारी का एक बड़ा हिस्सा हासिल करेगा। स्रोत ने कहा, “गोयल एक शेयरधारक नहीं रहेंगे। टर्मेरिक विज़न में डिस्कवरी की 74 प्रतिशत की हिस्सेदारी और कपूर की 26 प्रतिशत की होने की संभावना है।”

इस सौदे से डिस्कवरी को लाइफ स्टाइल जॉनर में अपनी स्थिति मज़बूत करने में मदद मिलेगी क्योंकि यह इस क्षेत्र में दो चैनलों वाला एकमात्र ब्रॉडकास्टर होगा। यह वैश्विक ग्रुप टीएलसी चैनल का मालिक है और फॉक्स लाइफ, एनडीटीवी गुड टाइम्स और एस्सेल ग्रुप के स्वामित्व वाली लिविंग फूड्ज़ जैसे देसी लाइफ स्टाइल चैनलों के साथ प्रतिस्पर्धा करता है।

एक मीडिया विश्लेषक ने कहा, “इस सौदे से डिस्कवरी को फूड जॉनर में एक स्थानीय चैनल मिल जाएगा। हालांकि इसके पास अपनी वैश्विक भेंट के हिस्से के रूप में टीएलसी था, इसेक पास एक प्योर-प्ले फूड चैनल नहीं था। इसके अलावा, कपूर फूड जॉनर में एक मज़बूत ब्रांड हैं।”

Food_Food_Logoफूडफूड का अधिग्रहण लाइफ स्टाइल जॉनर में समेकन का पहला संकेत है। सिर्फ एक चैनल वाला ब्रॉडकास्टर होने के नाते, फूडफूड को केबल टीवी नेटवर्क पर मोटी कैरेज फीस सहित कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा था। एक आला क्षेत्र में परिचालन करते हुए पैमाना बढ़ाना एक बड़ा मुद्दा था। इसके अलावा, कारोबार का विस्तार करने के लिए एस्ट्रो अपना निवेश बढ़ाने के लिए अनिच्छुक था।

एक प्रसारण कंपनी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “लाइफ स्टाइल जॉनर एक बहुत ही प्रतियोगी जॉनर बन गया है। वैश्विक लाइफ स्टाइल जॉनर के चैनलों को भारतीय बाज़ार में विस्तार करने के लिए स्थानीय कंटेंट की ज़रुरत है और देसी चैनलों के लिए पैमाने बढ़ा पाना मुश्किल हो रहा है। ऐसे में यह अच्छा है कि फूडफूड को एक रणनीतिक निवेशक मिल गया है।”

बहुमत हिस्सेदारी के मालिक के रूप में, डिस्कवरी रणनीतिक मूल्य लाएगा और कपूर अब फूडफूड की अपनी विस्तार योजनाओं को फिर से शुरू कर सकते हैं। इससे पहले, फूडफूड तीन क्षेत्रीय भाषा के टीवी चैनल लॉन्च करने और ई-कॉमर्स जैसी डिजिटल पहल में निवेश करने की उम्मीद कर रहा था। योजना तमिल और तेलुगू भाषाओं में लॉन्च करने की थी। तीसरा चैनल कन्नड़ में एक ऑडियो फीड के रूप में हो सकता है।

एस्ट्रो और निवेश के लिए अनिच्छुक था। उसने टर्मेरिक विज़न में 3 करोड़ डॉलर के आसपास निवेश किया था। 2015 के मध्य में, उसने लगभग 73 प्रतिशत तक अपनी हिस्सेदारी बढ़ाई थी।

लाइफ स्टाइल जॉनर में काफी एक्शन दिख रहा है। लिविंग एंटरटैनमेंट ने पिछले साल फूड और लाइफस्टाइल चैनल लिविंग फूड्ज़ लॉन्च किया था। वह इस वित्त वर्ष में तीन चैनलों को लाने की योजना बना रहा है। कंपनी ने वैलनेस को समर्पित एक चैनल लिविंग जेन के लिए 1 अगस्त की लॉन्च की तारीख का लक्ष्य रखा है। उसके बाद लिविंग ट्रावैल्ज़ लॉन्च होगा। लिविंग फूड्ज़ एक हाई-डेफिनिशन (एचडी) फ़ीड साल के अंत तक लॉन्च करेगा। इसके अलावा, यह इस साल भाषायी क्षेत्र में जाएगा और सबसे पहले एक तमिल चैनल लॉन्च होगा।

एनडीटीवी गुड टाइम्स ने हाल ही में एक तमिल फ़ीड शुरू की है और अब और अधिक क्षेत्रीय भाषाओं में प्रवेश की उम्मीद कर रहा है। चैनल हेड आरती सिंह ने पहले टेलिविज़न पोस्ट से कहा था, “हमारे पास अभी अंग्रेज़ी, हिंदी और तमिल हैं। हम तेलुगु और बंगाली में जाने की योजना बना रहे हैं।”

फूडफूड को डिस्कवरी में एक मज़बूत सहारा मिल गया है, पर बड़े नेटवर्क की समेकन की लहर के दबाव में एनडीटीवी गुड टाइम्स जैसे चैनल आ सकते हैं। बाज़ार में हिस्सेदारी के विस्तार के लिए अधिग्रहण ही सिर्फ एक रास्ता नहीं है। बड़े नेटवर्क नए चैनल लॉन्च के माध्यम से विस्तार कर सकते हैं और बाज़ार में परिपक्वता आने पर लाइफ स्टाइल मनोरंजन के अधिक जॉनरों में विस्तार कर सकते हैं। इससे छोटे प्रसारण नेटवर्क के लिए गुंजाईश कम बचेगी।

लाइफ स्टाइल जॉनर एक दिलचस्प चरण में प्रवेश कर रहा है। इस दौर में हम जानेंगे कि डिस्कवरी द्वारा फूडफूड का अधिग्रहण क्या एक छिटपुट सौदा बनके रह जाएगा या इस जॉनर में और भी उथल-पुथल होनी है जहां लॉन्ग टेइल (ऐसा ट्रैंड जहां आला जॉनरों में ज़्यादा हिट्स होते हैं) का अभाव है।