लाइव पोस्ट
चीन में शुरू हुआ दुनिया का सबसे ऊंचा पुल, 14.40 करोड़ डॉलर से बना
नोटबंदी को लेकर तृणमूल कांग्रेस का पीएम मोदी पर कटाक्ष- 'उम्मीद है कल बड़ी घोषणा करेंगे'
सीतापुर में यात्रियों से भरी बस नदी में पलटी, बचाव कार्य जारी
झारखंड में कोयला खदान के अंदर फंसे मजदूर, 10 शव निकाले गए
दिल्ली हाई कोर्ट ने शादियों के लिए बैंक खाते से 2.5 लाख रुपए निकालने के खिलाफ याचिका खारिज़ की
संसद के दोनों सदनों में नोटबंदी के खिलाफ विपक्षी दलों का हंगामा जारी
घोषित काले धन पर लगेगा 50% टैक्स, लोकसभा ने आयकर अधिनियम में संशोधन पास किया

फूडफूड को एस्ट्रो पर मिली एफआईपीबी की मंज़ूरी, डिस्कवरी की राह साफ

मुंबई: डिस्कवरी कम्युनिकेशंस अब टरमेरिक विज़न का 74 प्रतिशत मालिकाना हासिल करने से बस कदम दूर रह गई है। टरमेरिक विज़न फूड व लाइफस्टाइल चैनल, फूडफूड की मालिक व संचालक है।

फूडफूड के संस्थापक-प्रवर्तक और सेलेब्रिटी शेफ संजीव कपूर और संदीप गोयल की मोगी कंसल्टेंट्स को टरमेरिक विज़न में मलयेशिया के समूह एस्ट्रो के 73 प्रतिशत मालिकाने को खरीदने की इजाज़त विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (एफआईपीबी) से मिल गई है।

पूरे विकासक्रम से जुड़े एक सूत्र ने बताया, “एफआईपीबी ने टरमेरिक विज़न के प्रस्ताव को मंज़ूरी दे दी है। इससे कंपनी में एस्ट्रो का मालिकाना खरीदने का रास्ता साफ हो जाएगा।”

असल में, भारतीय रिजर्व बैंक ने टरमेरिक विज़न से इस प्रक्रिया को अपनाने का आग्रह किया। इसलिए उसे  अलग से एफआईपीबी की मंज़ूरी लेने की ज़रूरत पड़ी। रिजर्व बैंक ने टरमेरिक विज़न में एस्ट्रो की शेयरधारिता की साफ-साफ जानकारी मांगी थी जो कंपनी के मुताबिक साल 2010 में 73 प्रतिशत थी। असल में टरमेरिक विज़न को कंपनी में 80 प्रतिशत शेयरधारिता एस्ट्रो को देने के लिए एफआईपीबी की मंज़ूरी मिली हुई थी।

इसके बाद टरमेरिक विज़न ने एफआईपीबी से इस पर दोबारा मुहर लगाने को कहा। सूत्र का कहना था, “रिजर्व बैंक के आग्रह के चलते एस्ट्रो का मालिकाना बेचने के लिए एफआईपीबी से प्रक्रियागत अनुमोदन ले लिया गया है।”

जैसी कि टेलिविज़न पोस्ट पहले ही खबर दे चुका है कि कपूर और गोयल पहले टरमेरिक विज़न में एस्ट्रो का इक्विटी हिस्सा खरीदेंगे। इसके बाद कपूर के पास कंपनी की लगभग 80 प्रतिशत इक्विटी आ जाएगी, जबकि गोयल के पास बाकी 20 प्रतिशत हिस्सा होगा।

बाद में डिस्कवरी गोयल के शेयर खरीद लेगी। साथ ही वो कपूर की शेयरधारिता का भी बड़ा अंश खरीद लेगी।

एफआईपीबी ने मंगलवार को छह प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) प्रस्तावों को मंजूरी दे दी। इनसे देश में लगभग 180 करोड़ रुपए का विदेशी निवेश आएगा। बोर्ड ने जिन 15 प्रस्तावों पर विचार किया, उसमें से चार निरस्त कर दिए गए और पांच को ज्यादा सूचना पाने के लिए आगे टाल दिया गया।

गौरतलब है कि बीते वित्त वर्ष 2015-16 में देश में 40 अरब डॉलर का एफडीआई आया है। यह साल भर पहले के 30.93 अरब डॉलर से 29 प्रतिशत ज्यादा है।

यह भी पढ़े: