लाइव पोस्ट
चीन में शुरू हुआ दुनिया का सबसे ऊंचा पुल, 14.40 करोड़ डॉलर से बना
नोटबंदी को लेकर तृणमूल कांग्रेस का पीएम मोदी पर कटाक्ष- 'उम्मीद है कल बड़ी घोषणा करेंगे'
सीतापुर में यात्रियों से भरी बस नदी में पलटी, बचाव कार्य जारी
झारखंड में कोयला खदान के अंदर फंसे मजदूर, 10 शव निकाले गए
दिल्ली हाई कोर्ट ने शादियों के लिए बैंक खाते से 2.5 लाख रुपए निकालने के खिलाफ याचिका खारिज़ की
संसद के दोनों सदनों में नोटबंदी के खिलाफ विपक्षी दलों का हंगामा जारी
घोषित काले धन पर लगेगा 50% टैक्स, लोकसभा ने आयकर अधिनियम में संशोधन पास किया

सोनी मैक्स2 ने शेखर सुमन के साथ पेश किया ‘लाइट्स, कैमरा, किस्से’ का सीज़न-2

मुंबई: हिंदी फिल्म चैनल सोनी मैक्स2 अपने छोटे फॉर्मैट शो ‘लाइट्स, कैमरा, किस्से’ के दूसरे सीज़न के साथ वापस आ गया है।

‘Lights-Camera-Kisseyकार्यक्रम का दूसरा सीज़न हिंदी सिनेमा की ऐतिहासिक फिल्मों जैसे ‘चश्मे बद्दूर’, ‘कोशिश’, ‘वास्तव’, ‘रोजा’ और ‘चाची 420’ आदि के निर्माण के दौरान की कहानियों को उजागर करने का प्रयास करेगा।

दिग्गज टेलिविज़न हस्ति शेखर सुमन को एक बार फिर से इस शो के मास्टर कथाकार के रूप में लिया गया है जो हिंदी सिनेमा को परिभाषित करने वाली कहानियों को जीवंत बनाएंगे। व्यापक रिसर्च और उद्योग के दिग्गजों के साथ विचार विमर्श के बाद, बेहतरीन लघु कथाओं को अंतिम रूप दिया जा चुका है।

सितंबर के पहले सप्ताह में शुरू यह 3 मिनट का शो दिन भर में अलग-अलग फिल्म स्लॉट से पहले प्रसारित किया जाएगा और 3 नई कहानियां हर हफ्ते लाएगा। 75 ताज़ा एपिसोड के साथ, शो हिंदी सिनेमा की आकर्षक और शानदार दुनिया की एक खिड़की बन जाएगा, एक ऐसा क्षेत्र जिसे भारतीय टेलिविज़न पर कभी नहीं तलाशा गया।

Udayan-Shuklaमैक्स2 के एसवीपी और प्रोग्रामिंग हेड उदयन शुक्ला ने कहा, “कहानी कहने की कला एक बहुत शक्तिशाली कौशल है और अगर अच्छी तरह से पेश किया जाए तो, इससे दर्शक मोहित और प्रेरित हो सकते हैं। दर्शकों की सकारात्मक रुचि नापने के बाद, हम ‘लाइट्स, कैमरा, किस्से’ का दूसरा सीज़न ला रहे हैं। अपने पहले सीज़न की तरह यह छोटा फॉर्मैट पूर्व मिलेनियम युग में बनी ऐतिहासिक हिंदी फिल्मों के पीछे की आकर्षक कहानियों को उजागर करेगा जो उन फिल्मों के निर्माण के दौरान घटित हुईं।”

शेखर सुमन ने कहा, “सबसे रोचक कहानियां वो हैं जो बेहद असामान्य हैं और जिसे लोगों ने सुना नहीं है। ‘लाइट्स, कैमरा, किस्से’ के दूसरे सीज़न के माध्यम से दर्शकों को हिंदी सिनेमा की प्रसिद्ध फिल्मों के निर्माण के दौरान क्या हुआ उसके बारे में पहले कभी नहीं मिली ऐसी जानकारी मिलेगी। ये अनकही दास्तां न केवल हमारे फिल्म देखने के अनुभव को समृद्ध करेंगी बल्कि हमें इन फिल्मों के साथ बेहतर कनेक्ट करने में मदद करेंगी।”