लाइव पोस्ट
चीन में शुरू हुआ दुनिया का सबसे ऊंचा पुल, 14.40 करोड़ डॉलर से बना
नोटबंदी को लेकर तृणमूल कांग्रेस का पीएम मोदी पर कटाक्ष- 'उम्मीद है कल बड़ी घोषणा करेंगे'
सीतापुर में यात्रियों से भरी बस नदी में पलटी, बचाव कार्य जारी
झारखंड में कोयला खदान के अंदर फंसे मजदूर, 10 शव निकाले गए
दिल्ली हाई कोर्ट ने शादियों के लिए बैंक खाते से 2.5 लाख रुपए निकालने के खिलाफ याचिका खारिज़ की
संसद के दोनों सदनों में नोटबंदी के खिलाफ विपक्षी दलों का हंगामा जारी
घोषित काले धन पर लगेगा 50% टैक्स, लोकसभा ने आयकर अधिनियम में संशोधन पास किया

स्टार स्पोर्ट्स ने मार्च के टी20 वर्ल्ड कप के लिए जुटा लिए स्पॉन्सर

मुंबई: टी20 वर्ल्ड कप भारत में 8 मार्च को शुरू हो रहा है और ब्रॉडकास्टर स्टार स्पोर्ट्स ने इस इवेंट के लिए चार सह-पेशकर्ता स्पॉन्सर जुटा लिए हैं। ये 4 स्पॉन्सर हैं – निसान, एयरटेल, ऑप्पो मोबाइल और फ्लिपकार्ट।

star-sports-logo1सहायक स्पॉन्सर पेप्सी, विमल पान मसाला, लॉयड एसी, रेमंड्स, क्रिकबज़, एमआरएफ और कैडबरी हैं।

सह-प्रस्तोताओं को हरेक मैच में 180 सेकंड मिलेंगे और सहयोगी स्पॉन्सर को 100 से 130 सेकंड प्रति मैच मिलेंगे। कुल 35 मैच होने हैं।

इस पहल की सीईओ अनामिका मेहता ने कहा कि इस साल टी20 क्रिकेट काफी कुछ ऑफर कर रहा है।

“टीम इंडिया, वनडे या टेस्ट क्रिकेट की तुलना में इस फॉर्मैट में ज्यादा बेहतर कर रही है। वर्ल्ड कप और इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) एक ही तरह की केटेगरी लेकिन विभिन्न विज्ञापनदाताओं को आकर्षित कर रहे हैं। अमेज़ॉन एक बार फिर से आईपीएल के लिए वापस आ गया है तो फ्लिपकार्ट वर्ल्ड कप का उपयोग कर रहा है।”

यही स्थिति बेवरेज कैटेगरी में भी है जहां पेप्सी एक स्पॉन्सर के रूप में टी20 वर्ल्ड कप में है और कट्टर प्रतिद्वंद्वी कोका कोला आईपीएल में है। मेहता ने कहा, “यह मार्केट के लोगों के उद्देश्य का सवाल है। एक इवेंट के साथ आपका सहयोग इस पर निर्भर करता है कि आप क्या चाहते हैं। आईपीएल एक सुरक्षित दाव है और वहां एक टीम के प्रदर्शन पर कुछ निर्भर नहीं है। इसके विपरीत वर्ल्ड कप में दिलचस्पी इस पर बनी रहेगी कि भारत इवेंट में कितनी प्रगति करेगा।”

मेहता को लगता है कि स्टार स्पोर्ट्स को कुछ इनवेंटरी पकड़ कर रखनी चाहिए जैसे कैश का करीब 20 प्रतिशत तक, ताकि भारत द्वारा प्रगति करने पर उसका इस्तेमाल किया जा सके।

ICC-World-T20-2016चेन्नई और राजस्थान की जगह दो नई टीमों के संदर्भ में, मेहता का मानना है कि धोनी जैसे खिलाड़ी टीमों की तुलना में बड़े ब्रांड हैं। लेकिन ईपीएल के साथ ऐसा नहीं है जहां मैनचेस्टर यूनाइटेड और मैनचेस्टर सिटी के ब्रांड, किसी भी खिलाड़ी से बड़े हैं। आईपीएल की टीमों को ईपीएल की टीम जैसी प्रतिष्ठित स्थिति तक पहुंचने में अभी वक्त लगेगा। ये इंग्लिश क्लब आईपीएल से कहीं लंबे समय से मौजूद हैं।

मेहता ने उल्लेख किया कि मास्टर्स चैंपियंस लीग और अंडर19 क्रिकेट वर्ल्ड कप जैसी प्रॉपर्टी में दिलचस्पी कम रहेगी। इसका कारण मार्केटिंग ज़ोर का नहीं होना है। स्टार और सोनी द्वारा सारे प्रयास वर्ल्ड कप और आईपीएल पर खर्च किए जाएंगे न कि किसी सेवानिवृत्त क्रिकेटर या ऐसी इवेंट पर जिसमें युवा खिलाड़ी हों जिनके बारे में लोगों ने कुछ न सुना हो। ऐसी स्थिति हमेशा से रही है।

डेन्ट्सु एजिस के सीईओ आशीष भसीन ने कहा कि हरेक इवेंट की अपनी जगह है। उन्होंने कहा, “भारतीय टीम वर्ल्ड कप के अंत तक कहां तक पहुंचेगी, यह दर्शकों की संख्या को प्रभावित करेगा।”