लाइव पोस्ट

तगड़ी विज्ञापन आय के दम पर बढ़ा ज़ी एंटरटेनंमेंट का परिचालन लाभ

मुंबई: अग्रणी ब्रॉडकास्टर ज़ी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड (ज़ेईईएल) ने विज्ञापन से अच्छी आय मिलने के दम पर 31 मार्च 2016 को समाप्त वित्त वर्ष 2015-16 में अपने परिचालन लाभ में 20.4 प्रतिशत की स्वस्थ बढ़त हासिल की है।

वित्त वर्ष 2015-16 के दौरान समेकित स्तर पर ज़ी एंटरटेनमेंट का परिचालन लाभ (ब्याज, टैक्स, मूल्यह्रास व अमोर्टिजेशन से पूर्व लाभ) 1509.6 करोड़ रुपए रहा है। पिछले वित्त वर्ष 2014-15 में उसका परिचालन लाभ 1253.7 करोड़ रुपए रहा था। इस बार उसका परिचालन लाभ मार्जिन 25.8 प्रतिशत रहा है।

इस दौरान उसका शुद्ध लाभ पिछले वित्त वर्ष के 975.5 करोड़ रुपए से 5.5 प्रतिशत बढ़कर 1028.9 करोड़ रुपए पर पहुंच गया, जबकि उसका शुद्ध लाभ मार्जिन 17.6 प्रतिशत रहा है।

कंपनी की समेकित परिचालन आय इस बार 5851.5 करोड़ रुपए रही है जो पिछले वित्त वर्ष की कुल आय से 19.8 प्रतिशत ज्यादा है।

ज़ी एंटरटेनमेंट ने मंगलवार को घोषित नतीजों में बताया है कि वित्त वर्ष 2015-16 में उसकी विज्ञापन आय 3429.6 करोड़ रुपए रही है जो पिछले वित्त वर्ष से 28.9 प्रतिशत अधिक है।

इस दौरान उसकी सब्सक्रिप्शन आय साल भर पहले के 1793.48 करोड़ रुपए से 14.7 प्रतिशत बढ़कर 2057.9 करोड़ रुपए पर पहुंच गई।

इसमें भी उसकी घरेलू सब्सक्रिप्शन आय 1630.3 करोड़ रुपए रही है, जबकि अंतरराष्ट्रीय सब्सक्रिप्शन से उसकी आय 427.6 करोड़ रुपए दर्ज की गई है।

पूरे वित्त वर्ष में उसका कुल खर्च 19.6 प्रतिशत बढ़कर 4341.9 करोड़ रुपए हो गया है।

The-table-below-presents-the-condensed-statement-of-operations-for-ZEE-and-its-subsidiaries

चौथी तिमाही का प्रदर्शन

वित्त वर्ष की चौथी या मार्च तिमाही में ज़ी एंटरटेनमेंट का परिचालन लाभ साल पहले की समान तिमाही की बनिस्बत 52.8 प्रतिशत बढ़कर 413.6 करोड़ रुपए हो गया। इस दौरान उसका परिचालन लाभ मार्जिन 27 प्रतिशत दर्ज किया गया है।

चौथी तिमाही में कंपनी का शुद्ध लाभ 260.61 करोड़ रुपए रहा है जो साल भर पहले से 12.9 प्रतिशत अधिक है। वहीं, उसका शुद्ध लाभ मार्जिन इस बार 17.4 प्रतिशत रहा है।

इस दौरान उसकी समेकित परिचालन आय 1531.6 करोड़ रुपए रही है जो पिछले वित्त वर्ष की चौथी तिमाही की तुलना में 13.7 प्रतिशत ज्यादा है।

CONDENSED-STATEMENT-OF-OPERATIONS-forth-quarter

subhashchandra300x300-d14120294b61168ताज़ा वित्तीय प्रदर्शन पर ज़ी एंटरटेनमेंट के चेयरमैन डॉ. सुभाष चंद्रा का कहना है, “तिमाही में हुआ विकास संतोषजनक रहा है और नए चैनलों में किया गया निवेश अब नतीजे दिखाने लगा है। हम विकास के ऐसे अवसरों को तलाशने के लिए प्रयासरत हैं जिससे लंबे समय की टिकाऊ संवृद्धि हासिल की जा सके।”

उक्त तिमाही में ज़ी एंटरटेमनेंट की विज्ञापन आय 864.5 करोड़ रुपए रही है। यह साल भर की समान अवधि की अपेक्षा 29.1 प्रतिशत अधिक है।

तिमाही के दौरान कंपनी की कुल सब्सक्रिप्शन आय 16.4 प्रतिशत बढ़कर 594.4 करोड़ रुपए पर पहुंच गई। इसमें से घरेलू सब्सक्रिप्शन 486.2 करोड़ रुपए रहा है जो साल भर पहले की समान अवधि की तुलना में 12.1 प्रतिशत ज्यादा है।

वहीं, उसकी अंतरराष्ट्रीय सब्सक्रिप्शन आय साल भर पहले के 35.3 प्रतिशत बढ़कर 126.2 करोड़ रुपए पर पहुंच गई। कंपनी की अन्य बिक्री व सेवाओं में सिंडीकेशन बिक्री, फिल्म डिस्ट्रीब्यूशन, बिक्री पर कमीशन, प्ले-आउट व ट्रांसमिशन सेवाएं और सुविधा के इस्तेमाल से हुई आय शामिल है।

REVENUE-STREAMS

Punit-Goenka-150x150ज़ी एंटरटेनमेंट के प्रबंध निदेशक व सीईओ पुनीत गोयनका ने इस मौके पर कहा, “हम अपने दर्शकों की सेवा के लिए कंटेंट के मोर्चे पर नवाचार करना जारी रखेंगे। डिजिटल प्लेटफॉर्मों पर कंटेंट की बढ़ती खपत के साथ कंटेंट प्रोडक्शन का लोकतंत्रीकरण किया गया है और उससे ग्राहक के लिए कंटेंट की विविधता बढ़ जाएगी।”

मार्च 2016 की तिमाही के दौरान कंपनी की परिचालन लागत 688.1 करोड़ रुपए है। यह साल भर पहले की समान अवधि की परिचालन लागत 620.1 करोड़ रुपए से 11 प्रतिशत अधिक है। तिमाही के दौरान कंपनी की कर्मचारी लागत 7.3 प्रतिशत बढ़कर 129.7 करोड़ रुपए हो गई। तिमाही में कपनी का कुल खर्च 1118 करोड़ रुपए रहा है जो पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही की तुलना में 3.9 प्रतिशत अधिक है।

अंतरराष्ट्रीय बिजनेस

31 मार्च 2016 को समाप्त तिमाही में ज़ी एंटरटेनमेंट के अंतरराष्ट्रीय बिजनेस की उपलब्धियां इस प्रकार रह हैं:

  • विज्ञापन आय 112 करोड़ रुपए
  • सब्सक्रिप्शन आय 126.2 करोड़ रुपए
  • अन्य बिक्री व सेवाओं से मिले 21 करोड़ रुपए
  • कुल आय 259.2 करोड़ रुपए

स्पोर्ट्स बिजनेस

ज़ी एंटरटेनमेंट ने वित्त वर्ष 2015-16 की चौथी तिमाही में अपने स्पोर्ट्स बिजनेस से 160.1 करोड़ रुपए की आय हासिल करने की घोषणा की है। लेकिन उसका खर्च इससे ज्यादा 183.7 करोड़ रुपए का रहा है।

इस तरह कंपनी की अपने स्पोर्ट्स बिजनेस से चौथी तिमाही में 23.6 करोड़ रुपए का घाटा हुआ है, जबकि साल भर पहले की समान तिमाही में उसे 24.2 करोड़ रुपए का लाभ हुआ था।

स्पोर्ट्स को हटा दें तो उसका परिचालन लाभ मार्जिन 31.9 प्रतिशत रहा है।

आलोच्य तिमाही में उसकी मुख्य स्पोर्ट्स प्रॉपर्टीज़ में दक्षिण अफ्रीका बनाम इंग्लैंड की क्रिकेट सीरीज़, दक्षिण अफ्रीका बनाम ऑस्ट्रेलिया की क्रिकेट सीरीज़, यूएफा चैम्पियंस लीग का राउंड 16, डब्ल्यूटीए फाइनल और डब्ल्यूडब्ल्यूई रॉयल रम्बल्स का प्रसारण शामिल था।

अगली तिमाही में कंपनी ज़िम्बाब्वे बनाम भारत क्रिकेट सीरीज़, वेस्ट इंडीज़ बनाम दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट सीरीज़ और यूएफा चैम्पियंस लीग जैसे खेल आयोजनों का प्रसारण करेगी।

कॉरपोरेट घटनाक्रम

ज़ी एंटरटेनमेंट ने बैंगलोर की एविएशन कंपनी फ्लाई बाई वायर (एफबीडब्ल्यू) इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड में 49 प्रतिशत मालिकाना खरीद लिया है। कंपनी का कहना है कि बाकी 51 प्रतिशत मालिकाना वो आवश्यक नियामक मंज़ूरियां मिलने के बाद खरीद लेगी। ज़ेडईईएल ने मार्च में 61.25 करोड़ रुपए की कुल राशि में एफबीडब्ल्यू का पूरा अधिग्रहण करने के फैसले की घोषणा की थी।

सार्थक एंटरटेनमेंट द्वारा अपने प्रदर्शन में श्रेष्ठ उपलब्धि हासिल करने के बाद ज़ी एंटरटेनमेंट उसे अधिग्रहण की स्वीकृत शर्तों के मुताबिक जुलाई 2016 में 10 करोड़ रुपए ऊपर से देगी। ज़ी एंटरटेनमेंट ने जुलाई 2015 में सार्थक एंटरटेनमेंट का अधिग्रहण 115 करोड़ रुपए में किया था, तब पूरी तरह कैश में हुए इस सौदे में चैनल के प्रदर्शन के आधार पर वित्त वर्ष 2016-17 और 2017-18 में 15 करोड़ रुपए देने पर सहमति बनी थी। सार्थक एंटरटेनमेंट ओडिया का सामान्य मनोरंजन चैनल सार्थक टीवी चलाता है।

ज़ी एंटरटेनमेंट के निदेशक बोर्ड ने इस नतीजों की घोषणा के साथ ही एक रुपए अंकित मूल्य के शेयर पर 2.25 रुपए (225 प्रतिशत) का लाभांश देने की सिफारिश की है। इस सिफारिश पर अमल शेयरधारकों के अनुमोदन पर निर्भर है।