लाइव पोस्ट

टीवी टुडे का शुद्ध लाभ वित्त वर्ष 2014-15 में 32% बढ़ा, आय में भी अच्छी वृद्धि

मुंबई: चौथी तिमाही में खर्चों में तेज वृद्धि और स्टैंडअलोन शुद्ध लाभ में 45.23 प्रतिशत की बड़ी गिरावट के बावदजूद टीवी टुडे नेटवर्क (टीवीटीएन) का पूरे वित्त वर्ष का प्रदर्शन मजबूत बना रहा है।

31 मार्च को समाप्त वित्त वर्ष 2014-15 में इस न्यूज़ ब्रॉडकास्टर कंपनी ने आय में जबरदस्त वृद्धि के दम पर अच्छा-खासा शुद्ध लाभ कमाया है।

कंपनी का शुद्ध लाभ पिछले वित्त वर्ष के 61.32 करोड़ रुपए से 32.1 प्रतिशत बढ़कर बीते वित्त वर्ष 2014-15 में 81.03 करोड़ रुपए हो गया।

संयोग से, चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में आय में अद्भूत विकास (चुनाव खर्च के चलते) और तीसरी तिमाही में (त्योहारों पर खर्च के चलते) कंपनी की परिचालन आय 22 प्रतिशत बढ़कर पूरे वित्त वर्ष में 474.7 करोड़ रुपए हो गई।

TVTN-pnl-yoy

खर्चों की स्थिति

टीवी टुडे नेटवर्क की एक बड़ी चिंता खर्चों का बढ़ना हो सकती है। वित्त वर्ष 2013-14 में उसका खर्च 2012-13 की तुलना में मात्र 2.3 प्रतिशत बढ़ा था। लेकिन वित्त वर्ष 2014-15 में यह पिछले वित्त वर्ष से 23.2 प्रतिशत ज्यादा रहा है जो आय में हुई प्रतिशत वृद्धि से अधिक है।

कंपनी की कर्मचारी लागत वित्त वर्ष 2013-14 में घट गई थी, जबकि इस बार 25.6 प्रतिशत बढ़ गई है। साल के दौरान असल में टीवी टुडे समूह बड़े नामों को खींचने में लगा रहा। वित्त वर्ष की शुरुआत में करन थापर हेडलाइंस टुडे में आ गए। बाद में इसी वित्त वर्ष इंडियन एक्सप्रेस के पूर्व प्रधान संपादक व सीईओ शेखर गुप्ता और सीएनएन-आईबीएन के प्रधान संपादक राजदीप सरदेसाई भी समूह से जुड़ गए।

शेखर गुप्ता तो तीन महीने में ही किनारा हो लिए। लेकिन राजदीप सरदेसाई इंडिया टुडे के सलाहकार संपादक बने हुए हैं और आजतक व हेडलाइंस टुडे दोनों के लिए शोज़ करते हैं।

TV-Today-expenses-yoy

इसी तरह, हिंदी न्यूज़ जगत का नेता और अंग्रेज़ी में मजबूत स्थिति होने के बावजूद वित्त वर्ष की अंतिम तिमाही में कंपनी का कैरेज़ खर्च काफी ज्यादा बढ़ गया। साथ ही उसका विज्ञापन, डिस्ट्रीब्यूशन व बिक्री प्रमोशन खर्च वित्त वर्ष 2014-15 में साल भर पहले की अपेक्षा 18.7 प्रतिशत बढ़ गया है।

फिर भी टीवी टुडे का परिचालन लाभ (अन्य आय, वित्तीय लागत व असाधारण मदों से पहले) इस दौरान 19.6 बढ़कर 101.66 करोड़ रुपए पर पहुंच गया।

टीवी ब्रॉडकास्टिंग सेगमेंट

कंपनी के टेलिविज़न ब्रॉडकास्टिंग सेगमेंट में आजतक, हेडलाइंस टुडे, तेज़ व दिल्ली आजतक चैनल शामिल हैं। इस सेगमेंट की आय पिछले साल के 374.06 करोड़ रुपए से उछलकर इस बार 461.08 करोड़ रुपए पर पहुंच गई। इस सेगमेंट का शुद्ध लाभ 2014-15 में 126.71 करोड़ रुपए रहा है, जबकि पिछले वित्त वर्ष 2013-14 में यह 103.74 करोड़ रुपए रहा था।

रेडियो सेगमेंट

ओय एफएम टीवी टुडे की गले की फांस बनी हुई है। बीते वित्त वर्ष में उसकी आय 15.48 करोड़ रुपए दर्ज की गई है, जिस पर उसे कुल 9.28 करोड़ रुपए का घाटा लगा है।

पिछले वित्त वर्ष में कंपनी की रेडियो सेगमेंट से आय 15.38 करोड़ रुपए और घाटा 11.24 करोड़ रुपए रहा था।

वित्त वर्ष की आखिरी तिमाही में टीवी टुडे ने अपना सात शहरों का रेडियो बिजनेस, ओय एफएम बेचने के लिए रेडियो मिर्ची चलानेवाली कंपनी, एंटरटेनमेंट नेटवर्क्स इंडिया लिमिटेड (ईएनआईएल) के साथ गैर-बाध्यकारी एमओयू पर दस्तखत किए।

लेकिन सूचना व प्रसारण मंत्रालय ने उसका आवेदन कर दिया है। इसके बाद कंपनी कानूनी विकल्पों की तलाश में जुटी हुई है।

वित्त वर्ष 2014-15 की वित्तीय झलकी 

मार्च 2015 में खत्म चौथी तिमाही

  • लंबे अरसे बाद कंपनी के शुद्ध लाभ में साल भर पहले की समान अवधि की तुलना में 45 प्रतिशत की भारी कमी आई।
  • मार्च तिमाही में कंपनी का शुद्ध लाभ 8.69 करोड़ रुपए रहा, जबकि वित्त वर्ष 2013-14 की मार्च तिमाही में उसका शुद्ध लाभ 15.85 करोड़ रुपए रहा था।
  • परिचालन आय में 17.7 प्रतिशत की वृद्धि हुई, लेकिन कुल खर्च इससे कहीं ज्यादा 32.8 प्रतिशत बढ़ गए।

TVTN-pnl-qoq

  • विज्ञापन, डिस्ट्रीब्यूशन व बिक्री प्रमोशन (कैरेज़) लागत काफी ज्यादा 80 प्रतिशत बढ़ गई। वहीं कर्मचारी लागत में 36 प्रतिशत और प्रोडक्शन लागत में 38 प्रतिशत का इजाफा हुआ।

TV-Today-expenses

  • तिमाही की खास विकासक्रम टीवी टुडे का अपना घाटे में चल रहा रेडियो बिजनेस रेडियो मिर्ची को बेचने का फैसला था। हालांकि यह सौदा नियामक उलझाव का शिकार हो गया है।

दिसंबर 2014 में खत्म तीसरी तिमाही

  • टीवी टुडे की आय 18.22 प्रतिशत बढ़कर 131.72 करोड़ रुपए हुई।
  • तिमाही में शुद्ध लाभ 27.6 प्रतिशत बढ़कर 26.34 करोड़ रुपए पर पहुंचा।
  • कर्मचारी लागत 34.9 प्रतिशत उछलकर 33.54 करोड़ रुपए हो गई।

सितंबर 2014 में खत्म दूसरी तिमाही

  • टीवी टुडे की आय 21.8 प्रतिशत बढ़कर 111.69 करोड़ रुपए हुई, लेकिन खर्चों में 30.23 प्रतिशत की वृद्धि ने शुद्ध लाभ को नीचे खींच लिया।
  • कंपनी का स्टैंडएलोन शुद्ध लाभ मात्र 2.89 प्रतिशत बढ़कर 13.20 करोड़ रुपए पर पहुंचा।

जून 2014 में खत्म पहली तिमाही

  • राजनीतिक विज्ञापनों के दम पर टीवी टुडे की आय में 54.1 प्रतिशत की जबरदस्त वृद्धि दर्ज की गई और वो 137 करोड़ रुपए पर जा पहुंची।
  • वित्त वर्ष की पहली तिमाही में कंपनी का शुद्ध लाभ लगभग दोगुना होकर 32.79 करोड़ रुपए पर पहुंच गया।
  • तिमाही के दौरान कंपनी ने अपनी होल्डिंग कंपनी लिविंग मीडिया लिमिटेड से अपने न्यूज़ चैनलों के डिजिटल अधिकार हासिल करने के लिए 38.75 करोड़ रुपए चुकाए। इस भुगतान को अमूर्त संपत्ति माना गया है और इसे दस साल की अवधि में अमोर्टाइज़ किया जाना है।

विज्ञापन, डिस्ट्रीब्यूशन व बिक्री प्रमोशन खर्च उछलकर 21.53 करोड़ रुपए पर पहुंचा।