लाइव पोस्ट
चीन में शुरू हुआ दुनिया का सबसे ऊंचा पुल, 14.40 करोड़ डॉलर से बना
नोटबंदी को लेकर तृणमूल कांग्रेस का पीएम मोदी पर कटाक्ष- 'उम्मीद है कल बड़ी घोषणा करेंगे'
सीतापुर में यात्रियों से भरी बस नदी में पलटी, बचाव कार्य जारी
झारखंड में कोयला खदान के अंदर फंसे मजदूर, 10 शव निकाले गए
दिल्ली हाई कोर्ट ने शादियों के लिए बैंक खाते से 2.5 लाख रुपए निकालने के खिलाफ याचिका खारिज़ की
संसद के दोनों सदनों में नोटबंदी के खिलाफ विपक्षी दलों का हंगामा जारी
घोषित काले धन पर लगेगा 50% टैक्स, लोकसभा ने आयकर अधिनियम में संशोधन पास किया

ज़ी टीवी प्रोग्रामिंग घंटे बढ़ाएगा, एंड टीवी डटा ब्रेक-इवेन पा लेने की राह पर

मुंबई: ज़ी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड (ज़ेडईईएल) अपने अग्रणी हिंदी जीईसी (सामान्य मनोरंजन चैनल) ज़ी टीवी के दर्शकों में आ रही गिरावट से निपटने के लिए चालू वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में उसकी प्रोग्रामिंग को तरोताज़ा करने जा रही है।

ज़ी एंटरटेनमेंट की विज्ञापन आय बढ़ने की रफ्तार उसके प्रमुख हिंदी जीईसी ज़ी टीवी की रेटिंग में थोड़ी कमी आने के कारण सुस्त पड़ गई है। कंपनी की विज्ञापन आय सालाना आधार पर पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 34.7 प्रतिशत बढ़ी थी, जबकि इस बार उसकी वृद्धि दर 15.7 प्रतिशत ही रही है।

हालांकि ज़ेडईईएल का कहना है कि  विज्ञापन आय की यह वृद्धि दर भी मजबूत मानी जाएगी क्योंकि इस दौरान विज्ञापन खर्च, खासकर ई-कॉमर्स सेगमेंट का विज्ञापन खर्च कम रहा है और पिछली तिमाही की तुलना में उसके अग्रणी चैनल की रेटिंग में मामूली कमी आई है।

ज़ी एंटरटेनमेंट के प्रबंध निदेशक पुनीत गोयनका ने मीडिया विश्लेषकों को बताया कि रेटिंग में गिरावट कुछ बुरे शो चुनने के कारण आई है। उन्होंने यह भी कहा कि ज़ी टीवी की नई टीम (आकाश चावला के नेतृत्व में) चैनल को वापस ट्रैक पर लाने के लिए कई मजबूत शो तैयार करने में लगी है।

गोयनका का कहना था, “क्या गलत हुआ, इस पर सोचते हुए मुझे लगता है कि अमल के मामले में गलती हुई है। मेरा मतलब बुरे शोज़ से है जिनके चलते रेटिंग नीचे गई है। लेकिन हम इसे दुरुस्त कर लेंगे।”

उन्होंने आगे कहा, “ज़ी टीवी में हमारे पास अब नई टीम, नया नेता है जो करीब 4-5 महीने पहले वापस आया है और वो ऐसे शोज़ तैयार करवा रहा है जिन्हें इसी वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में री-लॉन्च किया जाएगा। इसलिए हम चौथी तिमाही से कुछ सकारात्मक गति देखने की उम्मीद कर सकते हैं।”

ज़ी टीवी का इरादा इस वित्त वर्ष के अंत तक अपने प्रोग्रामिंग घंटों को प्रति सप्ताह 25 घंटों के मौजूदा स्तर से बढ़ाकर लगभग 30 घंटे कर देने का है। वहीं, एंड टीवी पर प्रोग्रामिंग घंटे 21 के वर्तमान स्तर से बढ़ाकर 24 घंटे प्रति सप्ताह करने की योजना है। हालांकि, लॉन्च कब और कैसे किए जाएंगे, यह उसके आधार पर किया गया अनुमान है और यह तिमाही-दर-तिमाही भिन्न रह सकता है।

गोयनका ने कहा कि कंपनी के पास चालू वित्त वर्ष और आनेवाले वित्त वर्ष के लिए कुछ योजनाएं हैं कि एंड टीवी में कैसे ब्रेक-इवेन हासिल किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि चैनल के प्रदर्शन के बारे में काफी विश्वास जताया।
उनका कहना था, “अगर आप एंड टीवी पर गौर करें तो पहली व दूसरी तिमाही में ही हमने वास्तव में दर्शकों की संख्या में 12 प्रतिशत सुधार देखा है। इसलिए मुझे लगता है कि हम सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। चाहे मैं प्रदर्शन से खुश दिखूं, मगर मैं प्रदर्शन से कभी खुश नहीं रहता। मैं हमेशा अपने आस्तियों से ज्यादा से ज्यादा हासिल करने की अपेक्षा करता रहता हूं।”

गोयनका का यह भी कहना था, “तो, हमारे पास मौजूदा और उसके बाद के वित्त वर्ष के लिए योजनाएं हैं कि हम उसे कैसे हासिल करेंगे। हमने शुरुआत में आकलन पेश किया था कि इस तरह का ब्रेक-इवेन हासिल करने में तीन साल का वक्त लग जाएगा और मुझे लगता है कि हाल-फिलहाल सब कुछ हमारे नियंत्रण के भीतर चल रहा है।”