लाइव पोस्ट

टीडीसैट ने समता के मामले में अरासु से 13 अप्रैल तक जवाब दाखिल करने को कहा

मुंबई: दूरसंचार विवाद निपटान व अपीलीय ट्राइब्यूनल (टीडीसैट) ने चेन्नई के स्वतंत्र मल्टी सिस्टम ऑपरेटर (एमएसओ) तमिळगा केबल टीवी कम्युनिकेशन लिमिटेड (टीसीसीएल) द्वारा दायर समता के मामले पर राज्य सरकार के स्वामित्व वाले तमिलनाडु अरासु केबल टीवी कॉरपोरेशन से 13 अप्रैल तक अपना जवाब दाखिल करने को कहा है।

एक संक्षिप्त आदेश में, ट्राइब्यूनल ने बताया कि तमिलनाडु अरासु केबल टीवी कॉरपोरेशन को पिछले आदेश द्वारा इस मामले में प्रतिवादी नंबर दो के रूप में अभियोजित किया गया है। उनकी ओर से वकील अब्दुल सलीम ट्राइब्यूनल के समक्ष उपस्थित हुए थे।
स्टार इंडिया के जवाब की एक प्रति और स्टार के जवाब पर याचिकाकर्ता के जवाब की एक प्रति अब्दुल सलीम को दी गई है।

इस मामले की अगली सुनवाई 15 अप्रैल को होनी है।

इससे पहले, टीसीसीएल 10 नवंबर, 2014 को ब्रॉडकास्टर स्टार इंडिया से अरासु केबल के बराबर समता के मुद्दे की मांग लेकर टीडीसैट के समक्ष गया था।

एमएसओ ने तर्क दिया कि राज्य द्वारा संचालित एमएसओ अरासु केबल टीवी कॉरपोरेशन को वस्तुतः एनालॉग और डिजिटल में स्टार की ओर से मुफ्त सिग्नल मिल रहे हैं जबकि वह रेफरेंस इंटरकनेक्ट ऑफर (रियो) दर के आधार पर स्टार को भुगतान कर रहा है। हालांकि एमएसओ के इस तर्क को स्टार ने नकार दिया है।

यहा यह नोट करना प्रांसगिक होगा कि अरासु के पास चेन्नई महानगरीय क्षेत्र में काम करने के लिए डिजिटल एड्रेसेबल सिस्टम (डैस) लाइसेंस नहीं है। वह मद्रास हाई कोर्ट द्वारा पारित एक अंतरिम आदेश के तहत चेन्नई में एनालॉग सिग्नल प्रदान कर रहा है।

13 फ़रवरी को पारित एक आदेश में ट्राइब्यूनल ने अरासु केबल टीवी कॉरपोरेशन का प्रतिनिधित्व करने वाले उनके जनरल मैनेजर को प्रतिवादी नंबर दो के रूप में अभियोजित करने का निर्देशन दिया था।